पटना, 19 सितम्बर।  हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के विद्वान पंडित विष्णु नारायण भातखंडे जी का  जन्म मुंबई प्रान्त के बालकेश्वर नामक ग्राम में 10 अगस्त, 1860 ई. को हुआ।

सन् 1907 में इनकी ऐतिहासिक संगीत यात्रा आरंभ हुई। सबसे पहले ये दक्षिण की ओर गए और वहाँ के बड़े-बड़े नगरों में स्थित पुस्तकालयों में पहुंचकर संगीत सम्बन्धी प्राचीन ग्रन्थों का अध्ययन किया।

आधुनिक भारत में शास्त्रीय संगीत के पुनर्जागरण के अग्रदूत हैं जिन्होंने शास्त्रिए संगीत के विकास के लिए भातखंडे संगीत-शास्त्र की रचना की तथा कई संस्थाएँ तथा शिक्षा केन्द्र स्थापित किए। इन्होंने इस संगीत पर प्रथम आधुनिक टीका लिखी थी। उन्होने संगीतशास्त्र पर “हिंदुस्तानी संगीत पद्धति” नामक चार भागों में प्रकाशित किया।

संगीत कला पर इन्होंने कई पुस्तकें लिखीं जिसमें प्रमुख हैं– भातखंडे संगीत-शास्त्र के चार भाग और क्रमिक पुस्तक-मालिका के छह भाग”। इन भागों में हिन्दुस्तान के पुराने उस्तादों की घरानेदार चीज़ें स्वरलिपिबद्ध करके प्रकाशित की गई है।

सन् 1913 ई. से, जब इन पर रोगों का आक्रमण हुआ, इनका स्वास्थ्य बिगड़ गया। तीन साल की लम्बी बीमारी के बाद 19 सितम्बर, 1936 को इनका निधन हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.