पटना, 21 जून। विश्व योग दिवस के ऐतिहासिक अवसर पर भारती शिक्षा समिति, बिहार के तत्वावधान में विद्वत परिषद् पटना महानगर इकाई द्वारा एक ‘विद्वत विचार संगोष्ठी’ विद्या भारती काॅन्फ्रेन्स हाॅल, कदमकुआं में अपराह्न 2.00 बजे संपन्न हुई।
कार्यक्रम की अध्यक्षता पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डाॅ. अरूण कुमार सिन्हा ने की।
कार्यक्रम का उद्घाटन मां शारदे के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन एवं पुष्पाार्चन द्वारा किया गया। न्यूरो सर्जन तथा मेडिपार्क हाॅस्पिटल के निदेशक तथा कार्यक्रम के संयोजक डाॅ. शाश्वत कुमार ने संगोष्ठी की प्रस्तावना रखते हुए भारत के विकास के लिए यहां के जनमन में राष्ट्रीयता की प्रखर भावना उत्पन्न करने तथा लोगों को अपने कर्तव्यों के प्रतिबद्धता पर जोर दिया।
मुख्य अतिथि के नाते प्रो. दिलीप बेतकेकर जी ने भारत की आध्यात्मिक चेतना, यहां की गौरवशाली परंपराओं के प्रति गौरव भाव, भारतीय जीवन मूल्यों की विश्वव्यापी स्थापना तथा ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में भारत की उपलब्धियों सेप्रेरणा लेकर विज्ञान-प्रौद्योगिकी में आगे बढ़ने का आह्वान किया। अपने विशिष्ट उद्बोधन में आईआईटी पटना के प्रो. आर. के बेहरा ने भारत की आध्यात्मिक चेतना पर विस्तार से प्रकाश डालते हएु प्रेम, करूणा, सत्य अहिंसा, दया, परोपकरार, सहअस्तित्व, सहयोग, समन्वय की भावना को जगाकर संपूर्ण विश्व को श्रेष्ठ बनाने का आह्वान किया।
प्रदेश मंत्री प्रो. एन.के. पांडेय जी ने भारत के वैश्विक विचार ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ की भावना को विस्तार देकर भारत को पुनः विश्वगुरू के रूप में प्रतिष्ठित करने की आवश्यकता बतायी। इसका गुरुतर दायित्व हम सब विद्वत समाज पर है। हम जहां भी कार्यरत हैं, इस भाव को प्रतिष्ठित करेंगे।
पूर्व कुलपति प्रो0 अरूण कुमार सिन्हा जी अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में भारत के प्राचीन ज्ञान-विज्ञान से प्रेरणा लेकर भारत को अधिकाधिक श्रेष्ठ बनाने तथा राष्ट्रीय एकात्मता के विकास के लिए मातृभाषा गौरव बढ़ाने पर बल दिया।
अतिथियों का स्वागत एवं परिचय डाॅ. कुमार अपुनम जी ने कराया तथा मंच संचालन इस कार्यक्रम के सूत्रधार तथा पटना विभाग के विभाग प्रमुख श्री वीरेन्द्र कुमार ने किया। इस बैठक की जानकारी मीडिया प्रमुख एन. के. मिश्रा जी ने दी।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि के नाते ओजस्वी वक्ता, शिक्षाविद् तथा विद्या भारती के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रो. दिलीप बेतकेकर सहित विशिष्ट तिथि के नाते आईआइटी, पटना के वरीय प्राध्यापक प्रो. आर.के. बेहरा, गंगा देवी महिला महाविद्यालय की प्राचार्य डाॅ. श्यामा राय, पटना विश्वविद्यालय के वरीय प्राध्यापक भारती शिक्षा समिति, बिहार के प्रदेश मंत्री प्रो. एन. के. पांडेय, पटना के जाने-माने न्यूरो सर्जन डाॅ. बी.एन. सिंह, पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य अभियंता श्री कृपाल प्रसाद, प्रसिद्ध उद्यमी श्री गोपाल खेमका विद्या भारती के संगठन मंत्री मा. दिवाकर घोष, प्रदेश सवि श्री अमरनाथ प्रसाद, डीएवी के प्राचार्य डाॅ. विष्णुकांत ओझा, पटना विश्वविद्यालय विज्ञान महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. बी. एन. पाण्डेय, शास्त्रीनगर गल्र्स हाई स्कूल की प्राचार्य श्रीमती सुगंधा जी, साउथ बिहार विद्युत संचरण कंपनी के अधीक्षण अभियंता श्री रामबाबू सिंह, एन. एम. सी. एच. के चिकित्सक डाॅ. अशोक कुमार, डेंटिस्ट चेतना जी, पटना साइंस काॅलेज के भौतिकी विभागाध्यक्ष डाॅ. शंकर कुमार, आयुर्वेद महाविद्यालय के प्राध्यापक डाॅ. अजय कुमार सिंह, डाॅ. शिवादित्य ठाकुर आदि बड़ी संख्या में विद्वतजनों ने अपना विचार रखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.