न्यायमूर्ति मृदुला सिन्हा

पटना, 12 दिसम्बर। प्राथमिक स्तर पर बच्चों का मानसिक विकास सबसे अधिक होता है उस दरमियान शिक्षा की प्रणाली अच्छी होनी चाहिए, शिक्षकों का दायित्व बनता है कि उन्हें एक अच्छी शिक्षा दें जिससे वह सही दिशा प्राप्त कर सकें । उक्त बातें कदमकुआं स्थित सरस्वती विद्या मंदिर में आयोजित विद्युत परिषद संगोष्ठी के अवसर पर प्रख्यात न्यायमूर्ति मृदुला सिन्हा ने कही।

उन्होंने कहा कि शिक्षक का व्यक्तित्व संपूर्ण होना चाहिए जिससे वह विद्यार्थियों में वास्तविक शिक्षा दे सकें। सम्पूर्ण व्यक्तित्व वाले शिक्षक ही समाज को नई दिशा प्रदान कर सकते हैं । सिन्हा ने कहा कि शिक्षा को राजनीति और धर्म से प्रभावित नहीं होना चाहिए।

संगोष्ठी में डॉ प्रोफेसर चंद्रकांत सिंह डॉ राजीव कुमार सिंह जैसे कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *