विद्या मंदिर पुरानीगंज में आयोजित शारीरिक प्रशिक्षण वर्ग के चौथे दिन का प्रारंभ प्रदेश सचिव गोपेश कुमार घोष, क्षेत्रीय शारीरिक प्रमुख ब्रह्म देव प्रसाद, प्रांतीय शारीरिक प्रमुख फणीश्वर नाथ एवं अनिल कुमार ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलित कर किया.

गोपेश कुमार घोष ने कहा कि शारीरिक शिक्षा, शिक्षा का एक महत्त्वपूर्ण अंग है जिसमें छात्रों के शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य का विकास करने के लिए शारीरिक कार्यक्रम शामिल होते हैं. शारीरिक शिक्षा का लक्ष्य मनुष्य का सर्वांगीण विकास करना है, खिलाड़ियों के निर्माण एवं विकास में शारीरिक शिक्षक की अहम भूमिका रहती है. उनके उचित दिशा निर्देशन खिलाड़ियों को शिखर पर पहुंचा देता है. हमें ऐसे खिलाड़ियों का निर्माण करना होगा जो नई पीढ़ी के आदर्श और प्रेरणा की प्रतिमूर्ति बने.

VIDHYA BHARTI 07777

वही ब्रह्मदेव प्रसाद ने कहा कि खेलों का आधार उत्साह और उमंग होती है, खेलों के प्रचार एवं प्रसार में प्रेरणा, स्फूर्तिदायक टॉनिक का काम करती है. शारीरिक शिक्षा में प्रशिक्षण का तात्पर्य किसी भी शारीरिक शिक्षा या खेल-कूद की तैयारी से है. प्रशिक्षण द्वारा ही खेलकूद के लिए योग्यता पुष्टता एवं अनुकूलन प्राप्त किया जा सकता है.

आज फणीश्वर नाथ द्वारा दौड़ के नियम, राकेश पांडे द्वारा फैंक के नियम एवं रंजीत सिंह द्वारा कूद के नियम को विस्तार से बताया गया.

इस अवसर पर प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक, उज्जवल किशोर सिन्हा, चंद्रशेखर कुमार, अनिल कुमार, विरेंद्र किशोर राय एवं समस्त 17 जिलों से आए हुए 67 शारीरिक आचार्य उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.