28 जुलाई : जन्म-दिवस

पटना, 28 जुलाई : गुजरात में विश्व हिन्दू परिषद् के पर्याय बने श्री केशवराम शास्त्री का जन्म 28 जुलाई, 1905 को हुआ था। उनके पिता का नाम श्री काशीराम था। धार्मिक परिवार में जन्म लेने के कारण शास्त्री जी को बालपन से ही हिन्दू धर्म ग्रंथों के अध्ययन में विशेष आनंद मिलता था। वे अद्भुत मेधा के धनी थी। उन्होंने सैकड़ों ग्रंथों की रचना की। संयमित जीवन, संतुलित भोजन और नियमित दिनचर्या के बल पर वे 102 वर्ष तक सक्रिय रह सके।
1964 की जन्माष्टमी पर मुंबई के सान्दीपनी आश्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री गुरुजी और हिन्दू समाज के अनेक मत-पन्थों के विद्वानों एवं धर्मगुरुओं की उपस्थिति में विश्व हिन्दू परिषद् की स्थापना हुई। श्री केशवराम शास्त्री वहां उपस्थित थे। परिषद् की स्थापना की घोषणा होते ही उन्होंने गुजरात प्रदेश विश्व हिन्दू परिषद् की स्थापना की और अपना जीवन इसके लिए समर्पित कर दिया।
अपने घर आकर वे गुजरात में विश्व हिन्दू परिषद् को सबल बनाने में लग गये। इसके लिए उन्होंने गुजराती भाषा में ‘विश्व हिन्दू समाचार’ नामक पत्र निकाला। 26 वर्ष तक वे उसके संपादक रहे। वे कहते थे कि मैं मूलतः साहित्यिक जीव हूं। लेखन मेरा मुख्य कार्य है। इसलिए यह पत्र मेरी गोद ली हुई सन्तान है। उसका काम दूसरे कार्यकर्ता को सौंपने के बाद भी वे उसके लिए लगातार लिखते रहे और उसके प्रकाश्न की चिन्ता करते रहे।
परिषद् के पहले राष्ट्रीय अधिवेशन की चर्चा होने पर शास्त्री जी ने उसे गुजरात में करने का प्रस्ताव किया। उनके आग्रह पर सिद्धपुर में यह अधिवेशन संपन्न हुआ। उन्होंने अपने संगठन कौशल के बल पर गुजरात में परिषद् मजबूत तंत्र खड़ा किया। 7000 गांवों में परिषद् की समितियां उनके सामने खड़ी हो गयीं थी। सेवा कर्यों पर भी उनका बहुत जोर था। वनवासी क्षेत्र हो या नगरों के निर्धन हिन्दू परिवार; सबके बीच में शिक्षा और चिकित्सा के अनेक प्रकल्प उन्होंने प्रारंभ कराये। इससे ईसाई मिशनरियों द्वारा संचालित धर्मान्तरण के षड्यंत्रों पर रोक लगी और परावर्तन का क्रम प्रारंभ हुआ।
शास्त्री जी का सब कार्यकर्ताओं से आग्रह रहता था िकवे संगठन के विस्तार के लिए समय दें। वे स्वयं प्रवास तो करते ही थे; पर प्रतिदिन शाम को चार से पांच बजे तक विश्व हिन्दू परिषद् कार्यालय पर अवश्य आते थे। अस्वस्थ्य होने पर कार्यकर्ताओं को अपने घर बुलाकर उनसे संगठन संबंधी बात करते रहते थे। स्वर्गवास से दो दिन पूर्व उन्होंने कहा था कि यदि मैं खड़ा हो सका, तो सबसे पहले परिषद् कार्यालय पर जाना चाहूंगा।
जब वे 75 वर्ष के हुए, तो गुजरात विश्व हिन्दू परिषद में उनका ‘अमृत महोत्सव’ मनाया और उनके श्तायु होने की कामना की। शास्त्री जी ने अपने अभिनंदन के प्रत्युत्तर में कहा- परिषद् के विविध कार्य और सेवा प्रकल्प ही मुझमें प्राणबल की पूर्ति करते हैं। जीना है तो इसी ध्यये के लिए जीना, ऐसी हृदय में ढृढ़ता है और परमात्मा इसे पूरा करेंगे, ऐसी मेरी आत्मश्रद्धा है।
छह दिसंबर, 1992 के बाबरी ढंाचा गिरने पर वे गिरफ्तार कर लिये गये। उन्होंने घोर वृद्धावस्था में भी जेल जाना स्वीकार किया; पर झुकना नहीं। ऐसे समर्पित कार्यकर्ता ने 9 सितंबर, 2006 को अपने जीवनकार्य को विराम दिया। उनकी इच्छानुसार उनके पार्थिव शरीर को विश्व हिन्दू परिषद् कार्यालय लाया गया। इसके बाद ही उनका अंतिम संस्कार हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.