मुंगेर, 31 अक्टूबर। विज्ञान हमें जिज्ञासु बनाता है। प्राकृतिक विज्ञान को जितना समझने की कोशिश करेंगे उतना ही प्राकृतिक से जुड़ते चले जाएंगे। विज्ञान हमें संस्कारित करता है, यह व्यक्ति के सर्वांगीण विकास में सहायक है। उक्त बातें वरिष्ठ माध्यमिक सरस्वती विद्या मंदिर में बुधवार को भारतीय शिक्षा समिति एवं शिक्षा प्रबंध समिति बिहार के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित विज्ञान मेला में मुंगेर के अनुमंडल पदाधिकारी खगेश चंद्र झा ने मुख्य अतिथि के तौर पर कही।
इस मेले में मुंगेर, भागलपुर, पटना, गया, नालंदा, रोहतास और भोजपुर से लगभग नौ सौ भैया-बहनों ने भाग लिया। भारतीय शिक्षा समिति के प्रदेश सचिव प्रकाश चंद्र जायसवाल ने कहा कि विज्ञान मेला भैया-बहनों में वैज्ञानिक सोच विकसित करने का अवसर प्रदान करता है। पर्यावरण संरक्षण में विज्ञान की महत्वपूर्ण भूमिका है। भारत अपनी आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत के लिए जाना जाता है। हमारे पर्व-त्योहारों में विज्ञान का समावेश है।

वही विद्या भारती उत्तर-पूर्व क्षेत्र के क्षेत्रीय मंत्री कमल किशोर सिन्हा ने कहा कि जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति में समय का महत्व बहुत अधिक है। अतः उपकरणों के प्रयोग में सावधानी बरतें। इसके दुरुपयोग से भी बचें।
इस विज्ञान मेला में विज्ञान प्रदर्श, वैदिक गणित प्रयोग, सहित कई विषय शामिल थे।
अतिथियों का परिचय एवं स्वागत प्रधानाचार्य नीरज कौशिक ने किया। विज्ञान मेला में विभिन्न विषयों के निर्णायक मंडल के रूप में सरोज कुमारी, ओम प्रकाश पंडित, सुबोध कुमार शर्मा, अरविंद कुमार, चौधरी नियाजी, प्रोफ़ेसर गोपाल चौधरी, कृष्ण मुरारी कुमार आदि ने महती भूमिका निभाई।
कार्यक्रम का संचालन आचार्य अरुण कुमार द्वारा किया गया। वहीं व्यवस्था संबंधी जानकारी कार्यक्रम प्रमुख अनंत कुमार सिन्हा द्वारा दी गई।
इस प्रतियोगिता में प्रथम एवं द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले भैया-बहन अब क्षेत्रीय प्रतियोगिता में भाग लेंगे जो 4 नवंबर को सरस्वती विद्या मंदिर मुंगेर में ही आयोजित होगा।
इस अवसर पर विद्यालय प्रबंधकारणी समिति के सचिव अमरनाथ के कोषाध्यक्ष राम मोहन केसरी, शिशु शिक्षा प्रबंध समिति बिहार के सदस्य राजेंद्र प्रसाद यादव, पूर्णकालिक सदस्य रमेश चंद्र द्विवेदी, रामनरेश पाण्डेय सहित विभिन्न विद्यालय से आए भैया बहन एवं संरक्षक आचार्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.