नालंदा, 27 सितंबर। पूज्य तपस्वी श्री जगजीवन जी महाराज सरस्वती विद्या मंदिर, हसनपुर, नालंदा स्थित मैदान में तीन दिवसीय 31 वां प्रांतीय खेल कूद (एथलेटिक) समारोह का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर बिहार के भारतीय शिक्षा समिति के सचिव प्रकाश चंद्र जायसवाल ने कहा कि खेल का जीवन में उतना ही महत्वपूर्ण स्थान है जितना अन्य विज्ञान और मनोरंजन का। प्राचीन काल से खेल की विधिवत प्रतियोगिता होती थी। धीरे-धीरे प्रतियोगिता जिला स्तर, प्रदेश स्तर, क्षेत्र और राष्ट्रीय स्तर पर आ पहुंची। आज तो ऐसी स्थिति बन गई है कि सरस्वती विद्या मंदिर के खिलाड़ी काफी तादात में अंतरराष्ट्रीय खेल में अनेकानेक गोल्ड मेडल प्राप्त कर विश्व स्तर पर ख्याति प्राप्त कर रहे हैं।

इस अवसर पर बीपी मिश्रा महाप्रबंधक आयुध निर्माणी राजगीर ने कहा कि खेल मैत्री भावना को बढ़ावा देता है खेलों के आयोजन प्रतिभा के विकास में काफी सहायक होते हैं। जीवन में खेल का महत्वपूर्ण स्थान देने हेतु उचित एवं प्रशिक्षण केंद्रों का होना अति आवश्यक है मिश्रा ने कहा कि आज के बालकों को कल के भारत का महान युवा बनाना है खेलों से हमारा शरीर सुन्दर बनता है।
अमरीश कुमार प्रचारिणी खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि नियम पूर्वक खेल जीवन में उत्सव देते हैं। खेल हमारे अंदर अनुशासन और आज्ञाकारी भावना जगती है।
इस एथलेटिक में दक्षिण बिहार भारतीय शिक्षा समिति बिहार के लगभग 33 विद्यालयों के 400 प्रतिभागी खिलाड़ी अपने अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेंगे।

समारोह का उद्घाटन बीपी मिश्रा आयुध निर्माण राजगीर नालंदा बिहार, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह क्षेत्र प्रचारक माननीय राम नवमी प्रसाद ने दीप जला कर किया। सरस्वती वंदना के पश्चात मुख्य  अतिथि परिचय एवं स्वागत श्री अमरीश कुमार प्रधानाचार्य ने किया।
इस अवसर पर उपेंद्र भाई त्यागी विभाग प्रचारक नालंदा बिहार, ब्रह्मदेव प्रसाद क्षेत्रीय शारीरिक प्रमुख, वीरेन्द्र कुमार पटना विभाग प्रमुख, राजेश रंजन नालंदा विभाग के विभाग प्रमुख, फणीश्वर नाथ प्रांतीय खेलकूद प्रमुख, रंजीत कुमार प्रांतीय शारीरिक प्रमुख, संजय कुमार मिश्रा विद्यालय शारीरिक प्रमुख, निरवा निर्णायक कार्यक्रम प्रमुख, पवन कुमार सिंह सह प्रमुख, मनोरंजन कुमार सहित विद्यालय के सभी आचार्य अवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.