सीवान : छात्र – छात्राओं का सोशल मीडिया के प्रति बढ़ रहे रूझान को देखते हुए विद्यालय प्रबंधन व अभिभावकों की जिम्मेवारियां बढ़ गई है । हमें अब और स्मार्ट तरीके से सोचना पड़ेगा कि कहीं हमारे बच्चों मन-मस्तिष्क पर सोशल मीडिया कोई गलत प्रभाव न डाले । ये बातें अखिल भारतीय शिक्षण संस्थान ” विद्या भारती ” के विद्वत परिषद् के क्षेत्र ( बिहार + झारखंड ) संयोजक रामदयाल शर्मा ने सीवान के बड़हन गोपाल स्थित महावीरी सरस्वती विद्या मंदिर में विद्वत परिषद् के सीवान इकाई की बैठक को संबोधित करते हुए कहीं । उन्होंने कहा कि हमारे बच्चें सोशल मीडिया का सकारात्मक उपयोग करें, इसके लिए विद्यालय प्रबंधन, शिक्षकों व अभिभावकों को पहले ज्यादा स्मार्ट तरीके से सोचना ही नहीं पड़ेगा, बल्कि बच्चों के बीच एक मित्र की तरह अपने को स्थापित कर के उनका समय-समय पर मार्गदर्शन भी करना पड़ेगा । बैठक को संबोधित करते हुए विद्या भारती की स्थानीय इकाई लोक शिक्षा समिति, बिहार के सारण विभाग निरीक्षक मिथिलेश कुमार सिंह ने कहा कि शिक्षा में सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव को नकारा नहीं जा सकता है । हमें इस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि इसका शिक्षा में सकारात्मक उपयोग करने की जरूरत है । बैठक को संबोधित करते हुए पत्रकार व सोशल मीडिया एक्टिविस्ट नवीन सिंह परमार कहा कि सोशल मीडिया के दुष्प्रभाव को रोकने के लिए आवश्यक है कि हम सभी लोग सोशल मीडिया के बारीकियों को समझे और अपने आसपास के लोगों को भी इसके बारीकियों से अवगत करावें। श्री परमार ने कहा कि सोशल मीडिया का अगर सही उपयोग किया जाए तो यह शिक्षा के लिए लाभकारी सिद्ध होगा । उन्होंने कहा कि हमें इस मीडिया का उपयोग राष्ट्रहित में करने के लिए अपने आसपास के लोगों को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है । विद्या भारती अपने विद्यालयों के माध्यम से इस काम बाखूबी कर सकती है । बैठक का संचालन करते हुए बड़हन गोपाल महावीरी सरस्वती विद्या मंदिर के प्राचार्य आशुतोष कुमार मिश्र बताया कि शिक्षा में सोशल मीडिया का उपयोग किस प्रकार लाभकारी हो, इस विषय पर विचार करने के लिए आगामी 06 जनवरी 2019 को विद्या भारती, विद्वत परिषद् की ओर से छपरा में एक प्रमंडल स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया है । इस कार्यशाला में शिक्षाविद् , पत्रकार व सोशल मीडिया विशेषज्ञ अपनी विचार रखेंगे । बैठक में रामानुज सिंह, राम नरेश चौधरी, सत्येंद्र कुमार, सुमन कुमारी, सुनील कुमार, राज किशोर चौहान ने भी अपना – अपना विचार रखा ।
इस मौके पर रवि श्रीवास्तव, शशांक जी, विरेंद्र जी सहित दर्जनों लोग उपस्थित थें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.