20 दिसम्बर 2018: विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान द्वारा संचालित सरस्वती शिक्षा/विद्या मंदिर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से प्रेरित होने के कारण सम्पूर्ण समाज की चिंता करता है। समाज में दो प्रकार के विद्यालय संचालित हो रहें हैं- एक वह है जो स्थापना के समय से हीं बहुत अधिक धन खर्च कर स्थापित किया जाता है और बाद में बहुत अधिक शुल्क लेकर नामांकन लिया जाता है जिसमें समाज के सम्पन्न वर्ग के बच्चे हीं नामांकन करा पाते हैं। दूसरी ओर विद्या भारती के अन्तर्गत चलने वाले सरस्वती शिशु/विद्या मंदिर जो समाज के सहयोग से स्थापित किया जाता है, में समाज के हर वर्ग के बच्चे शिक्षा एवं संस्कार ग्रहण करते हैं। उक्त बातें पूर्वोत्तर क्षेत्र के संगठन मंत्री ब्रह्मा जी राव ने वरिष्ठ माध्यमिक सरस्वती विद्या मंदिर के प्रशाल में बिहार प्रवास के दौरान आचार्यों को संबोधित करते हुए कहा।
उनका यह प्रवास बिहार के विभिन्न जिलों में जिला केन्द्र के विद्यालय को शिक्षा के क्षेत्र में एक प्रभावी एवं सामाजिक समरसता का केन्द्र बनाने के उद्देश्य से हो रहा है। इसके लिए उन्होनें कहा कि केवल प्राचीन वैभव का गुणगान करने से काम नहीं चलेगा बल्कि शिक्षा के क्षेत्र में नये-नये शोध एवं प्रयोग करने होंगे जिससे समाज में सकारात्मक परिवर्तन हो सके। शिक्षा के साथ-साथ सेवा कार्य भी करने होंगे। इसके लिए पूरे जिले में कार्यकर्ता की टोली का निर्माण कर प्रत्येक वर्ष कार्य को आगे बढ़ाने की योजना बनाना होगा। सामाजिक समरसता की दृष्टि से जिला स्तर पर बड़ा कार्यक्रम का आयोजन करें जिसमें समाज के सभी वर्गों की सहभागिता हो एवं विद्यालय में फीजिकल लाईब्रेरी की स्थापना किया जाए जिससे समाज के लोग लाभान्वित हो सके। संस्कृत भाषा के विकास के लिए उन्होनें कहा कि समय-समय पर समाज के लोगों के सहयोग से संस्कृत संभाषण का आयोजन करना चाहिए। विद्या भारती द्वारा किये जाने वाले कार्यों को विभिन्न मीडिया के माध्यम से समाज तक पहुँचाने की आवश्यकता पर जोर दिया जाये।

 

इसके पूर्व विद्यालय के वंदना सभा में छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होनें कहा कि छात्र को अनुषासित होकर शिक्षा ग्रहण कर समाज के हित में कार्य करना चाहिए। उन्होनें विद्यालय प्रबंधकारिणी समिति के पदाधिकारियों एवं समाज के प्रबुद्धजनों के साथ भी बैठक कर विद्यालय को सामाजिक समरसता का केन्द्र बनाने की दिशा में सकारात्मक पहल करने की भी सलाह दी।
इस अवसर पर विद्या भारती बिहार क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री दिवाकर घोष, पूर्णकालिक कार्यकर्ता रमेश चन्द्र द्विवेदी, प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक, बालिका खण्ड की प्रधानाचार्या कीर्ति रश्मि, उप प्रधानाचार्य उज्ज्वल किशोर सिन्हा एवं समस्त आचार्य/आचार्या उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.