[button color=”” size=”” type=”3d” target=”” link=””]जेएनयू की पूर्व छात्रा शेहला रशीद की देशविरोधी नीतियों का पर्दाफाश होने के बाद उसके पिता अब्दुल रशीद शौरा ने अपनी बेटी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा कि उन्हें अपनी ही बेटी से जान का खतरा है।[/button]

जेएनयू की पूर्व छात्रा शेहला रशीद पर उसके पिता ने देशद्रोह और देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है। इसके लिए उन्होंने पुलिस महानिदेशक को एक पत्र लिखकर अपनी जान का खतरा होने की बात भी कही है। शेहला के पिता ने कहा कि उन्हें सुरक्षा दी जाए।
शेहला के पिता अब्दुल रशीद शौरा ने बताया कि उनकी बेटी देश-विरोधी गतिविधियों में शामिल है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पत्नी जुबैदा शौर, बड़ी बेटी आसमा रशीद और एक पुलिसकर्मी साकिब अहमद भी उसके साथ है। उन्होंने कहा कि साकिब को पीएसओ बताया जाता है।
शेहला के पिता अब्दुल रशीद ने दावा किया कि वर्ष 2017 में उनकी बेटी अचानक ही कश्मीर की राजनीति में आ गई थी। पहले वह नैशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल हुई थी। उसके बाद जेकेपीएम में शामिल हुई थी। उन्होंने बताया कि टेरर फंडिंग मामले में पहले ही इंजिनियर रशीद और जुहूर वटाली गिरफ्तार हैं। इन नेताओं ने उनकी बेटी को नई पार्टी में शामिल होने के लिए तीन करोड़ रुपये के पैकेज की पेशकश की। अब्दुल रशीद ने बताया कि जून 2017 में इन दोनों नेताओं ने उसे वटाली के घर पर बुलाया था, जो कि श्रीनगर में है। वहां पर उसे कहा गया कि वे लोग नई पार्टी बनाने जा रहे हैं और उसमें उनकी बेटी को जोड़ा जाएगा। उस दिन उन्हें मौके पर तीन करोड़ रुपये देने की बात कही गई थी लेकिन उन्होंने मना कर दिया था। उसके बाद उनकी बेटी से संपर्क किया गया। उन्होंने कहा, ‘मैंने उस समय कहा था कि जो पैसे उसे (शेहला रशीद) दिए जा रहे हैं वह गलत रास्ते आए हैं। इनका इस्तेमाल भी गलत जगह पर हो रहा है।’ उन्होंने बताया कि इसके बाद उनकी बेटी इन नेताओं के साथ जुड़ गई थी। इतना ही नहीं, उनका कहना है कि जब उन्होंने अपनी बेटी को मना किया तो उनसे कहा गया कि वह इस मामले में चुप रहें। उन्हें बताया गया कि पैसे ले लिए गए हैं। इन पैसों को जहां पहुंचाना था वहां भेज दिए गए हैं। यह भी कहा गया कि आगे और भी पैसे आएंगे।
शेहला के पिता का आरोप है कि इन सबके बाद उन्हें तंग किया जाने लगा। उनके घर पर कई लोगों का आना-जाना शुरू हो गया। जब उन्होंने इन सब चीजों के लिए मना किया तो उन्हें धमकियां दी जाने लगीं। अब्दुल रशीद ने पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने अपनी सुरक्षा की मांग की है। पुलिस महानिदेशक ने आईजी कश्मीर को मामले की जांच करने को कहा है।

श्रोत- पाचजन्य

Leave a Reply

Your email address will not be published.