राजर्षि पुरूषोतम दास टंडन 

पटना, 2 अगस्त। राजर्षि उपनाम से प्रसिद्ध पुरूषोतम दास टंडन का जन्म 1 अगस्त 1882 को इलाहाबाद में हुआ था। ये वकील, पत्रकार, हिंदी भाषा के ज्ञाता एवं स्वतंत्रता सेनानी थे। जुलाई 1937  से अगस्त  1950 तक पुरूषोतम दास टंडन उत्तर प्रदेश विधान सभा अध्यक्ष भी रहे।  ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से भी जुड़े रहे। जवाहर लाल नेहरू के विचारों से सहमत नहीं रहते थे। 1952 लोकसभा एवं 1956 में राज्य सभा के लिए चुने गए। पुरूषोतम दास एवं के०एम० मुंशी ने उस समय  हो रहे धर्म परिवर्तन का विरोध किया था। 1961 ई० में इन्हें भारत रत्न से नवाजा गया। हिन्दी भाषा को सम्मान दिलाने एवं राजभाषा बनाने में इनका महत्वपूर्ण योगदान था। 1 जुलाई 1962 को इनकी मृत्यु हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.