पटना/भागलपुर (विसंके)। विश्व को ज्ञान देने वाला बिहार आज कई समस्याओं को झेल रहा है। यहां के युवा सदा से प्रतिभावान रहे हैं। भारत के सभी प्रमुख प्रतियोगी परीक्षाओं में यहां के युवक अपनी कामयाबी का पताका फहराते हैं। ऐसे प्रतिभावान युवकों को पथभ्रष्ट करने की पूरी तैयारी चल रही है। लव जिहाद का मामला थमता नहीं दिख रहा। अब एक दूसरा जिहाद भी चल रहा है। इस जिहाद का लक्ष्य बिहार के प्रतिभावान युवक हैं।
बिहार में सफेद पाउडर के माध्यम से भी जिहाद किया जा रहा है। यह जिहाद मुख्यतः पश्चिम बंगाल के मालदा से संचालित हो रहा है। ड्रग जिहाद की गिरफ्त में प्रतिभावान युवक फंस रहे हैं। भागलपुर में जिस ड्रग सिंडिकेट का पता चला है उससे तो यही बात स्पष्ट हो रही है। पुलिस ने भागलपुर में 20 दिसंबर को एक बड़े ड्रग नेटवर्क का खुलासा किया है। भागलपुर के हबीबपुर इलाके में रहने वाले शिक्षक का बेटा सफद और उसका दोस्त टीपू शहर में ब्राउन सुगर के सबसे बड़े सप्लायर थे। उनके इस काम में दो मच्छरदानी सिलने वाले और कुबैत में काम करनेवाला मजदूर भी शामिल था। ये लोग भागलपुर के भोले-भाले युवकों को ड्रग्स की गिरफ्त में लाते थे और उसके माध्यम से और युवाओं को ड्रग्स का आदी बनाते थे।
आदमपुर का रहनेवाला पंकज शाह एक होनहार युवक था। मारवाड़ी काॅलेज में पढ़ने के क्रम में ही उसे ड्रग्स की लत इनलोगों ने लगाई। ड्रग की लत को पूरा करने के लिए वह ड्रग का सप्लायर बन गया। कमोबेश यही कहानी सबौर काॅलेज में इंटर के छात्र गौतम की है। जिसे लोग माफिया के नाम से जानते थे। जबकि इस पूरे नेटवर्क का माफिया तो कोई और था।
भागलपुर के ड्रग्स के कारोबार का नेटवर्क पश्चिम बंगाल से जुड़ा हुआ है। यहां के तार चिकेन नेक के डालकोला के तस्करों से जुड़े हुए हैं। मालदा इसका सबसे बड़ा केन्द्र है। कुछ दिन पूर्व जोगसर पुलिस ने ब्राउन सुगर की खेत के साथ उर्दू बाजार के ऋषि कुमार को गिरफ्तार किया था। उसने पुलिस को बताया था कि मालदा का मोहम्मद रहीम नशे के कारोबार का सबसे बड़ा माफिया है। वह भागलपुर समेत कई शहरों में नशीले पदार्थ का कारोबार कराता है। पिछले दो साल में पुलिस ने 20 से अधिक ब्राउन सुगर की खेप पकड़ी है। इस क्रम में 25 से अधिक पेडलर गिरफ्तार हुए हैं। 20 दिसंबर को जिन पांच लोगों के घर से पुलिस को नशा का खेप बरामद हुआ, उनमें प्रेम नगर सबौर का रहनेवाला गौतम माफिया, आदमपुर निवासी पंकज शाह, हबीबपुर दक्षिण टोला का मो. गुलाब आलम और हबीबपुर के ही चमेली चक मस्जिद के समीप रहने वाला मो. अतहर तथा अतहर के घर के समीप रहने वाला मोहम्मद तनवीर शामिल है। मो. गुलाब कुबैत में मजदूर है। जबकि अतहर और तनवीर मच्छरदानी सिलने का काम करते हैं। इसाकचक पुलिस ने मो. गुलाब को छोड़कर बाकी सबको गिरफ्तार कर लिया। मो. गुलाब मौके से फरार हो गया था। इस मामले में पुलिस ने मो. गुलाब की पत्नी और उसके ससुर को भी गिरफ्तार किया है।
किससे कितना ब्राउन सुगर बरामद हुआ
– मो. गुलाब आलम (हबीबपुर दक्षिण टोला), कुबैत में मजदूर रू 198 और 177 ग्राम का अलग-अलग पैकेट, अलग से 47 पुड़िया और मोबाइल।
– मो. अतहर (चमेली चक मस्जिद के पास, हबीबपुर), मच्छरदानी सिलने वाला रू 40 पुड़िया, वजन 45 ग्राम और एक इलेक्ट्रॉनिक वेट मशीन।
– मो. तनवीर (चमेलीचक चैक, मस्जिद के पास, हबीबपुर), मच्छरदानी सिलने वाला रू 40 पुड़िया, वजन 45 ग्राम।
– गौतम माफिया (प्रेमनगर, सबौर), सबौर कॉलेज में इंटर का छात्र रू 98 पुड़िया, फायल पेपर, दो मोबाइल।
– पंकज साह (आदमपुर), मारवाड़ी कॉलेज में बीए का छात्र रू 194 ग्राम और अलग से 26 पुड़िया।

– संजीव कुमार, संपादक, विसंके 

Leave a Reply

Your email address will not be published.