प्रफुल्ल चंद्र सेन (10 अप्रैल 1897- 25 सितंबर 1990)
पटना,25 सितंबर। ग्राम के विकास के कार्यो एवं हरिजनों के उद्धार में महवपूर्ण योगदान के कारण आरामबाग के गांधी के नाम से जाने जाने वाले प्रफुल्ल चंद्र सेन का जन्म 10 अप्रैल 1897 में हुगली जिला में हुआ। एक गरीब परिवार में जन्मे प्रफुल्ल चंद्र सेन का बचपन पूर्वी भारत के बिहार प्रांत में बिता। अपने प्रारंभिक शिक्षा के बाद मैट्रिक की परीक्षा इन्होंने पूर्वी बिहार के देवघर से उतीर्ण की। इसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई विज्ञान विषय से कोलकाता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से पूरी की। इसके बाद अपनी स्नातक की डिग्री कोलकाता विश्वविद्यालय से प्राप्त की। विदेश में अपनी आगे की सारी पढ़ाई की योजनाओं को त्याग कर वे गांधी जी के विचारों से प्रभावित होकर अंग्रेजों के खिलाफ एक जन गैर सहयोग आंदोलन के लिए महात्मा गांधी का साथ देने लगे।
बंगाल के प्रमुख कांग्रेस नेता

प्रफुल्ल चंद्र सेन 1961 से 1967 तक पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री भी रहे हैं। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान उन्होंने 11 वर्षो तक जेल में सजा भी काटी है। गांधी जी के अनुयायी रह चुके प्रफुल्ल चंद्र सेन ने 1968 के कांग्रेस विभाजन में इंदिरा गांधी के साथ नहीं दिया और खुद को पुराने नेतृत्व के साथ रहने का फैसला किया। इनकी मृत्यु 25 सितंबर 1990 को कोलकाता में ही हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.