पटना, 09 अक्टूबर। अपने पूर्वजों को आज की पीढ़ी भूल रही है। फिल्मों के माध्यम से हम अपने आने वाली पीढ़ी को अपना इतिहास बता सकते हैं। उस दिशा में ‘क्षेत्रीय सिनेमा और बिहार’ नामक स्मारिका का प्रकाशन एक सराहनीय प्रयास है। इससे सामाजिक धरोहर को बचाया जा सकता है। उक्त बातें बिहार सरकार के कला, संस्कृति युवा एवं खेल मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने विश्व संवाद केंद्र द्वारा प्रकाशित स्मारिका ‘क्षेत्रीय सिनेमा और बिहार’ का विमोचन करते हुए कहीं।
उक्त कार्यक्रम में विश्व संवाद केन्द्र के संपादक संजीव कुमार ने स्मारिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस स्मारिका के प्रकाशन का मुख्य उद्देश्य यह है कि क्षेत्रीय सिनेमा को बिहार में अधिक-से-अधिक बढ़ावा मिल सके। जहां ‘गंगा मईया तोहे पियरी चढ़ैबो’ जैसी भोजपुरी फिल्म ने फिल्म जगत में अपना ऐतिहासिक परचम लहराया था, वहीं आज का भोजपुरी सिनेमा अश्लीलता का पर्याय बन गया है। संस्था का प्रयास है कि भोजपुरी सिनेमा अश्लीलता से ऊबरे। उन्होंने आगे की जानकारी देते हुए कहा कि इस माह में 27-29 अक्टूबर तक तीन दिवसीय सिनेमेटोग्राफी पर आधारित कार्यशाला का आयोजन विश्व संवाद केन्द्र द्वारा किया जा रहा है। इस कार्यशाला के मुख्य प्रशिक्षक फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट आॅफ इंडिया, पुणे में अपना सेवा दे चुके प्रसिद्ध सिनेमेटोग्राफर महेश दिगराजकर होंगे।
इस अवसर पर फिल्म विश्लेषक प्रो. जय देव ने कहा कि हमारा प्रयास है कि हमने अब तक जितनी भी स्मारिका प्रकाशित की है उसका संकलन कर एक पुस्तक के रूप में जल्द ही प्रस्तुत किया जायेगा। जिससे अकादमिक स्तर पर बिहार के सिनेमा पर अध्ययन व शोध करने वालों को सुविधा होगी। बिहार के सिनेमा पर उन्होंने प्रकाश डालते हुए कहा कि यह हमारा दुर्भाग्य है कि बिहार सिनेमा का एक बड़ा बाजार होते हुए भी अपनी क्षेत्रीय सिनेमा के लिए उपेक्षित है। अगर कोई व्यक्ति यहां के क्षेत्रीय सिनेमा पर शोध करना चाहे, तो उसे लिखित रूप से कुछ प्राप्त नहीं होगा। ऐसे में हमने इस स्मारिका का प्रकाशन किया है ताकि लोगों तक इसकी प्रामाणिक जानकारी लिखित रूप में उपलब्ध हो सके।
पाटलिपुत्र सिने सोसायटी के संयोजक एवं फिल्मकार प्रशांत रंजन ने इस अवसर पर कहा कि गुजराती, मराठी, तमिल व बांग्ला फिल्मों के मुकाबले बिहारी सिनेमा में अधिक संभावनाएं हैं क्योंकि यहां कोई एक क्षेत्रीय भाषा नहीं बल्कि भोजपुरी, मैथिली, मगही, बज्जिका एवं अंगिका के रूप में पांच क्षेत्रीय भाषाएं हैं। अगर बिहारी सिनेमा पर गंभीरता से काम हो तो सबसे अधिक विविधतापूर्ण फिल्में बिहार में बनने लगेंगी। विमोचन समारोह को वरिष्ठ अभिनेता केशव भारतीय, मगही फिल्मकार मिथिलेश सिंह, फिल्म मर्मज्ञ डाॅ. शंभु कुमार सिंह ने भी संबोधित किया। फिल्म संगीत विश्लेषक धीरेन्द्र तिवारी ने भोजपुरी फिल्मों के सांगीतिक सफर पर विस्तृत प्रकाश डाला।
कार्यक्रम में फिल्मकार रीतेश परमार, राजगीर सिंह, अभिषेक तिवारी, सिने प्रेमी मो. चिरागउद्दीन अंसारी, सरीखे सिनेमा क्षेत्र से जुड़े कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.