नवादा। वंचित वर्गों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के बिना स्वस्थ्य समाज की कल्पना साकार नहीं हो सकती। उक्त बातें रविवार को स्थानीय संघ कार्यालय में स्वामी विवेकानन्द के जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नालंदा विभाग संघचालक डाॅ0 अशोक कुमार ने पावापुरी मेडिकल काॅलेज के युवा चिकित्सकों से कही। डाॅ. अशोक ने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति आज भी स्वस्थ्य सुविधाओं से दूर है और इस कारण स्वास्थ्य, साफ-सफाई के प्रति उदासीन रहकर एवं खर्च के अभाव में इलाज हेतु चिकित्सीय परामर्श से नहीं ले पाते है। उन्होने स्वामी विवेकानन्द के आदर्शों का उदाहरण देते हुए कहा कि जबतक समाज के हर वर्ग एक साथ मिलकर सेवाभाव से एकदुसरे के लिए आगे नहीं आएंगें तबतक समरस समाज की संकल्पना अधुरी है।

चिकित्सकों में सेवाभाव का जाग्रत होना समाज के लिए सेहतमंद

मौके पर उपस्थित जिला सेवा प्रमुख दिनेश कुमार ने कहा कि समाज के प्रति चिकित्सकों के अंदर सेवाभाव का जाग्रत होना जरूरी है और इसके होने से समाज सेहतमंद होगा। दिनेश कुमार शर्मा ने कहा कि सेवाभाव का जागरण शुरूआत से हो तो ज्यादा अच्छा है। इसलिए पावापुरी मेडिकल काॅलेज के प्रशिक्षु डाॅक्टर एवं ईंटर्न कर रहे छात्रों को नेशनल मेडिकोज आॅर्गनाइजेशन (एनएमओ) की मदद से सेवाभाव जाग्रत करने के लिए स्वास्थ्य शिविर में आग्रह कर बुलाया जाता है। ताकि वो जब डाॅक्टर बनकर अपने अपने क्षेत्रों में जाएंगें तो वंचितों की सहायता करते हुए कम खर्च में उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करा सके। वहीं इस अवसर पर जिला प्रचार प्रमुख कृष्ण मुरारी शास्त्री ने बताया कि दसों सेवाबस्तियों को मिलाकर कुल 1109 मरीजों को निशुल्क दवा वितरण करते हुए चिकित्सीय परामर्श मुहैया कराया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *