बिहार के वरिष्ठ पत्रकार और आकाशवाणी पटना के पहले संवाददाता रविरंजन सिन्हा ने आज दोपहर रूबन अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली। मूलतः आरा के रहने वाले 83 वर्षीय रविरंजन सिन्हा की पहचान एक समर्पित पत्रकार, अध्यापक एवं जनसंपर्क पदाधिकारी के रूप में होती थी। इन्होंने पत्रकारिता जीवन की शुरूआत अपने काॅलेज के दिनों से ही की थी। पटना विश्वविद्यालय से हिन्दी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई करते समय बहुभाषी संवाद समिति हिन्दुस्थान समाचार के स्ट्रिंगर के रूप में काम शुरू किया। इस न्यूज एजेंसी को उन्होंने पटना विश्वविद्यालय की एक से एक बढ़िया स्टोरी दी। पढ़ाई पूरी कर वे सर्चलाईट से जुड़े। पटना में जब आकाशवाणी का केन्द्र खुला तो यहां के पहले संवाददाता नियुक्त किये गये। कालांतर में रसायन खाद कारखाना सिंदरी के जनसंपर्क पदाधिकारी बने लेकिन अस्सी के दशक में अपनी नौकरी छोड़कर वे पुनः मुख्य धारा की पत्रकारिता में आ गये। डेक्कन हेराल्ड और डेक्कन क्रोनिकल के लिए कार्य करने लगे। 2005 के चुनाव में निर्वाचन प्रवेक्षक के.जे. राव का लिया गया साक्षात्कार पत्रकारिता के क्षेत्र में एक मील का पत्थर साबित हुआ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.