लॉकडाउन में बच्चों की पढ़ाई न हो प्रभावित, इसलिए शुरू की गई ऑनलाइन पढ़ाई


 

वैश्विक महामारी घोषित कोरोना वायरस के कारण सम्पूर्ण भारत में लॉकडाउन हो जाने के कारण छात्र-छात्राओं के समक्ष पढ़ाई की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई। ऐसे में सरस्वती विद्या मंदिर मुंगेर के प्रधानाचार्य सह संकुल प्रमुख नीरज कुमार कौशिक के द्वारा विगत 7 अप्रैल 2020 से ही पुरानीगंज संकुल के अंतर्गत सभी सरस्वती शिशु/विद्या मंदिरों में ऑनलाईन पढ़ाई आरंभ कराने की पहल शुरू कर दी। इसी कड़ी में सरस्वती विद्या मंदिर मुंगेर में कक्षा प्रथम से 12वीं तक के छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा देने के लिए प्रत्येक कक्षा के अनुसार कुल 33 व्हाट्सएप ग्रुप का निर्माण कर लगभग 1500 छात्रों को इस से जोड़ा गया। छात्रों के शैक्षिक एवं पढ़ाई की गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए व्हाट्सएप के अलावा तकनीक के अन्य माध्यमों जैसे- स्टडी मटेरियल का पीडीएफ बनाकर, जूम एप, टेनो एप, यूट्यूब, ऑडियो वीडियो इत्यादि का भी उपयोग कर छात्रों को शिक्षा, होमवर्क तथा प्रोजेक्ट वर्क देने का कार्य अनवरत चल रहा है। इसके लिए प्रत्येक दिन का समय-सारिणी बनाकर छात्रों को उपलब्ध करा दिया गया है। इस ऑनलाइन पढ़ाई की निरंतरता एवं गुणवत्ता को सर्वोत्तम बनाने के लिए प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक, उपप्रधानाचार्य उज्ज्वल किशोर सिन्हा, क्षेत्रीय बालिका शिक्षा संयोजिका कीर्ति रश्मि एवं प्राथमिक परिसर के प्रभारी अविनाश कुमार के द्वारा जूम एप की सहायता से शिक्षकों का मार्गदर्शन भी नियमित किया जा रहा है।

मालूम हो कि इस नई तकनीक से जहॉं छात्र-छात्राओं को पढ़ाई करने में आनंद की अनुभूति हो रही है, वहीं शिक्षक भी पूरी तन्मयता से उन्हें सिखाने एवं उनकी समस्याओं के समाधान में लगे हुए हैं। इस शिक्षण व्यवस्था को उत्कृष्ट बनाने के लिए रोज नई-नई तकनीकों की खोज एवं उसके उपयोग में विद्यालय के कक्षाचार्य, विषयाचार्य, शिक्षण प्रमुख, एवं शिक्षण सहप्रमुख, की भूमिका सराहनीय है।

प्रांतीय सोशल मीडिया प्रमुख संतोष कुमार ने बताया कि भारती शिक्षा समिति, बिहार के प्रदेश सचिव गोपेश कुमार घोष एवं सहसचिव प्रकाशचंद्र जायसवाल के मार्गदर्शन में विद्या भारती, दक्षिण बिहार के अन्तर्गत चलने वाले समस्त शिशु/विद्या मंदिरों में इस ऑनलाइन शिक्षण पद्धति का सफल  संचालन किया जा रहा है। आगे उन्होने कहा कि इस ऑनलाइन शिक्षण के निरीक्षण के लिए भारती शिक्षा समिति के प्रांतीय कार्यालय, पटना में एक टोली का निर्माण किया गया है, जो प्रत्येक दिन दक्षिण बिहार में चल रहे समस्त शिशु/विद्या मंदिरों के छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों को फोन कर उनकी समस्याओं एवं सुझावों को एकत्र करती है तथा इससे उच्चाधिकारियों को अवगत कराती है।

आज दिनांक 15 अप्रैल 2020 को प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक की अध्यक्षता में जूम एप के द्वारा आचार्यों के बैठक का आयोजन किया गया जिसमें सभी आचार्यों ने कोरोना पीड़ित लोगों के सहायतार्थ एक दिन का मानधन पीएम केयर्स फंड में देने की सहमति जताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.