पटना (विसंके)। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, बिहार प्रदेश द्वारा बिहार में लगातार एक हफ्ते 1जून से 7 जून तक युद्ध स्तर पर चलने वाले मिशन आरोग्य रक्षक का उद्घाटन किया गया। इस मिशन का उद्घाटन विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो. छगन भाई पटेल द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि 1918 के फ्लू में गांधी जी भी संक्रमित हुए थे और आज फिर से वही परिस्थिति उतपन्न हुई है जिसको मात देने के लिए विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता संकल्पबद्ध हैं।

इस मौके पर मुख्य रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख मा. अरुण जैन उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि जब अमेरिका ने अपने खाद्यान्न देने से मना कर दिया था तो बिना इतने विकसित संचार माध्यम के भी लाल बहादुर शास्त्री के आव्हान पर सभी देशवासियों ने एक समय का भोजन करना त्याग दिया। उन्होंने कहा कि भारत सदैव से विषम परिस्थितियों में भी एक उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है।

IMG-20210601-WA0022विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्री श्रीनिवास ने कहा कि बिहार प्रारम्भ से ही समग्र क्रांति का उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है और इस महामारी के समय मे भी देश विरोधी शक्तियों के नकारात्मक प्रोपगंडा को मात दे कर परिषद कार्यकर्ता सेवा भाव से राष्ट्रवाद का अलख पूरे देश भर में जगायेंगे।
विद्यार्थी परिषद की राष्ट्रीय महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा कि मिशन आरोग्य रक्षक में बिहार के 37 जिले 124 स्थानों से 7 दिन में 500 टीम 3000 कार्यकर्ता 10000 ग्राम एवं  बस्ती 1000000  लाख लोगों से अधिक लोगों का थर्मल स्क्रीनिंग करेगी और उनको आवश्यक दवाई इत्यादि प्रदान कर वैक्सीनेशन के लिए भी जागरूक करेगी।
अंत मे विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री मा. आशीष चौहान ने विद्यार्थी परिषद के देश भर में चलने वाले कार्यक्रमों की चर्चा की और बिहार के कार्यकर्ताओं की मिशन आरोग्य रक्षक की शुभकामनाएं प्रदान की।
धन्यवाद ज्ञापन प्रदेश अध्यक्ष डॉ शैलेश्वर ने किया। इस मौके पर प्रांत संगठन मंत्री डॉ सुग्रीव जी, प्रदेश सह संगठन मंत्री अजीत उपाध्याय, सुधांशु भुषण झा ,गौरव सुंदरम,अभिनव कुमार, शशि कुमार, वरुण सिंह, समृद्धि सिंह, शशी सिंह, रोहित राज, अभिषेक कुशवाहा,शाकेत कुमार, विकाश कुमार, कुमार सोनु, राकेश रौशन समेत कई दर्जन कार्यकर्ता PPE किट में उपस्थित रहे। कार्यक्रम के बाद सभी कार्यकर्ता विभिन्न गटों में थर्मल स्क्रीनिंग के लिए अपने-अपने क्षेत्र में चले गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.