बरौनी रिफायनरी के सी.जी.एम (एच.आर) मान सबोरा एवं सीजीएम (एचएसई) आर. के. झा से भारतीय मजदूर संघ के प्रतिनिधिमंडल ने मिलकर श्रमिकों के साथ हो रहे शोषण के संबंध में ध्यान आकृष्ट कराया।

प्रतिनिधिमंडल ने बीएमएस की राष्ट्रीय मंत्री विनय कुमार सिन्हा ने कहा कि मजदूरों को श्रम अधिनियम के अनुरूप न्यूनतम मजदूरी का भुगतान करने, पीएफ, ईएसआई की कटौती होने में पारदर्शिता बरती जाए, मजदूरों को शुद्ध पेयजल, सेफ्टी की व्यवस्था, विश्रामलय सहित सभी बुनियादी सुविधाएं सुनिश्चित की जाए.

इसके अलावे सुनील कुमार सिंह ने जिला में ईएसआई अस्पताल खोलने हेतु बरौनी रिफायनरी प्रबंधन को जमीन आवंटन में हो रहे विलंब की ओर ध्यान आकृष्ट कराया। प्रदेश महामंत्री उमा वाजपेई ने इस मामले को ईएसआई बोर्ड में उठाकर त्वरित फैसला करवाने की चर्चा की। मजदूर एकता केंद्र का नाम तथा बीएमएस के लोगो एवं झंडा का फर्जी रूप से प्रयोग करने वाले लोगों पर घड़ी हिदायत दी गई। उन्होंने कहा कि अब हमें ऐसे लोगों पर विधि सम्मत कार्रवाई करनी पड़ेगी।

बरौनी रिफाइनरी के श्रमिक विकास परिषद के अध्यक्ष रवी शंकर सिंह प्रमोद राम के नेतृत्व में रिफाइनरी के यूनियन की लड़ाई लड़ी जाएगा और आने वाले दिनों में संघ दमखम से चुनाव लड़ेगी.

भारतीय मजदूर संघ जम्मू कश्मीर में धारा 370 खत्म होने पर श्रमिकों के बीच मिठाई बांटकर खुशियां मनाई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस साहसी कदम को ऐतिहासिक बताया। इस बैठक में बरौनी खाद प्रतिष्ठान कामगार संघ के महामंत्री रामकुमार महर्षि, अध्यक्ष रणवीर कुमार, विद्युत श्रमिक संघ उप महामंत्री निरंजन सिंह, समेत बीएमएस के कार्यकर्ता शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.