पटना, 28 जुलाई : बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह में यौन का मामला थमा नहीं है कि  एक और का मामला महाराष्ट्र के पुणे से आ चूका है. जिसका सीधा संबंध बिहार से है.
आरोप है कि जामिया अमूबुझा दारूल यात्मा (मदरसा) के मौलवी ने कई छात्राओं का यौन शोषण किया.

मामले का खुलासा तब हुआ जब रेलवे पुलिस फोर्स ने दो नाबालिग को रेलवे स्टेशन पर बैठा देखा. आरपीएफ के पूछताछ करने के बाद नाबालिग छात्रा ने मदरसे का सच बताया. इस मदरसे में 5 से 14 साल के बच्चियों को पढ़ाया जाता है. आरपीएफ ने पूछताछ के बाद ‘साथी’ नाम के एनजीओ को इसकी सूचना दी. छात्राओं से बातचीत के बाद शक बढ़ता गया. छात्राओं ने बताया कि उसके साथ मदरसा में गलत काम किया जाता है. एनजीओ ने पुणे पुलिस से संपर्क साधा और जामिया अमूबुझा दारूल यात्मा (मदरसा) पर छापा मारा और मौलाना को गिरफ्तार किया गया.
पुलिस ने मौलाना के खिलाफ जुवेनाइल जस्टिस और पोक्सो कानून के तहत मुकदमा दर्ज किया है.

विशेष जानकारी देते हुए इंस्पेक्टर मिलिंद गायकवाड़ ने बताया ‘पुणे के कटराज में एक मौलाना को छात्राओं के साथ यौन उत्पीड़न करने के आरोप में मदरसे से गिरफ्तार किया गया है. इसके साथ ही मदरसे से 36 छात्राओं को बचाया भी गया है. पुलिस ने आरोपी मौलाना के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है.आपको बताते चले कि मदरसे में पढ़ने वाली ज्यादातर बच्चियां बिहार की रहने वाली है. गिरफ्तार मौलाना भी बिहार के भागलपुर का रहने वाला बताया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.