मधेपुरा, 04 दिसम्बर। भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय आये दिनों लगातार अपनी बढ़ती नाकामियों, कुव्यवस्था, और अनेक कारणों से समाचार के सुर्खियों में रहा है। विवादों के इस दौर में एक कड़ी और  बी.एन मंडल विश्वविद्यालय के नाम जुड़ गया है। इस बार B.Ed सत्र 2017-19 के नामांकन के तीसरी सूची में भारी गड़बड़ी तथा बी.सी.ए के छात्रों को विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित रिजल्ट में आधे और एक अंक से जान बुझकर फैल करने का आरोप है। जिसके कारण छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया गया।

अभाविप के छात्र कार्यकर्ताओं ने इन दोनों विषयों पर अपनी नाराजगी जाहिर कि इस अवसर पर अभाविप के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अक्षय कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा जारी की गई B.Ed  नामांकन को लेकर तीसरी सूची में भारी धांधली और गड़बड़ी की गई है। आखिर कैसे विश्वविद्यालय द्वारा जारी की गई नामांकन सूची में बहुत कम अंक वाले छात्राओं को सरकारी कॉलेजों में नामांकन के लिए भेज दिया गया और अधिक अंक पाने वाले छात्रों को प्राइवेट कॉलेजों में नामांकन के लिए भए दिया गया। विश्वविद्यालय में पदाधिकारियों की मिलीभगत के बिना यह कैसे संभव है इस विषय को विश्वविद्यालय प्रशासन गंभीरता से ले और जांच कराकर नामांकन पर स्थिति पूरी तरह स्पष्ट करें।

वहीं नगर मंत्री शशि कुमार यादव ने कहा कि बीसीए के प्रकाशित रिजल्ट में अधिक अंक पाने वाले छात्रों को फेल कर दिया गया साथ ही छात्रों का कहना है कि उन्होंने सभी प्रश्नों का उत्तर सही-सही दिया है। पिछली बार भी ऐसा ही किया गया था परन्तु विधार्थी परिसद् ने इसका विरोध किया विश्वविद्यालय से  पुनर्मूल्यांकन की मांग की थी और छात्रों का रिसल्ट सही रूप से सामने आया।

छात्रों का आरोप है की विश्वविद्यालय के इस रवैये से स्पष्ट होता है कि विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर उनका भविष्य अंधकार मय करना चाहती है। विधार्थी परिसद् दोनों विषयों पर चर्चा करते हुए छात्रों के भविष्य को सवारने में हर संभव प्रयास करेगीं। विधार्थी परिसद् ने विश्वविद्यालय प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर इस विषय को विश्वविद्यालय प्रशासन गंभीरता नहीं लेगी तो इसके खिलाफ आने वाले समय में एक बड़ा आंदोलन करेगीं।

इस अवसर पर संगठन मंत्री उपेंद्र कुमार भारत, नीतीश, नवीन, मनोज, सुमन कुमार, हिमांशु कुमार, रोहित कुमार, प्रमोद कुमार, रुपेश कुमार, विकास कुमार, अनुज कुमार, सतीश कुमार, राम कुमार, चंदन कुमार, जयंत कुमार, धनंजय कुमार, आशीष कुमार, प्रवीण कुमार, दिवाकर कुमार, सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.