पटना, 14 अप्रैल। लघु उद्योग भारती द्वारा पटना के गांधी मैदान स्थित रानी सती मंदिर, बैंक रोड में उद्यमी सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें उद्योग से संबंधित कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की गई। मुख्य रूप से लघु एवं कुटीर उद्योग को बढ़ावा देना, छोटे व्यापारियों को बढ़ावा देना मुख्य विषय था। उद्यमी सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि लघु उद्योग भारती का यह प्रयास छोटे व्यापारियों को बढ़ावा देने के साथ-साथ उद्योग के क्षेत्र में बिहार एवं भारत को एक नयी ऊंचाई प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म उद्योगों को पंूजीगत, सीड कैपिटल एवं ब्याज पर अनुदान प्रदान किया जाए तो राज्य एवं देश में रोजगार का अवसर पैदा हो सकता है। इसके लिए सरकार अपनी रणनीति भी बना रही है।
सम्मेलन में उपस्थित लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतेंद्र गुप्त ने लघु उद्योग भारती के प्रमुख कार्यों की चर्चा की जिसमें उन्होंने कहा कि भारत में कृषि के बाद सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाला सूक्ष्म एवं लघु उद्योग को बढ़ावा देना आवश्यक है परंतु उनका समुचित विकास नहीं हो पा रहा है। लघु उद्योग भारती सूक्ष्म एवं लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारतवर्ष में काम कर रही है। उन्होंने सरकार से मांग किया है कि उद्यमी भूमि को खरीदते या लीज या किराये पर लेने के दरम्यान अनेक प्रकार की कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है जिससे उद्योग प्रभावित होता है। इन कठिनाईयों को दूर करने का प्रयास किया जाय। बियाडा या राज्य सरकार द्वारा भूमि आवंटन में कम से कम 50 प्रतिशत भूमि सूक्ष्म उद्योग के लिए आरक्षित करने की भी मांग उन्होंने की।
सम्मेलन में अति विशिष्ट अतिथि के रूप में केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह, बिहार सरकार के श्रम मंत्री विजय कुमार सिन्हा के साथ लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय महामंत्री गोबिंद लेले, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष योगेश गौतम, बिहार प्रदेश के अध्यक्ष श्याम सुंदर भीमसेरिया, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र कार्यवाह डाॅ. मोहन सिंह, राष्ट्र कार्यकारिणी सदस्य एवं कार्यक्रम संयोजक रवीन्द्र प्रसाद सिंह उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.