पंडित मदन मोहन मालवीयजी एवं अटल बिहारी वाजपेईजी के जयंती के अवसर पर क्रीडा भारती किशनगंज द्वारा कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया। प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, उत्तर बिहार प्रांत प्रचारक राम कुमार जी मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित रहे साथ ही मंच पर प्रांत उपाध्यक्ष सुमन चंद, मुख्य अतिथि जिला शिक्षा पदाधिकारी कुन्दन कुमार, जिला खेल पदाधिकारी राघवेन्द्र कुमार दीपक, प्रांत मंत्री अमित कुमार ठाकुर, विभाग कार्यवाह सुखदेव सिंहजी, नगर संघ चालक नागर मल झाबरजी, जिला संयोजक सुबीर मजूमदार, जिला कार्यवाह देबू दा, स्वागताध्यक्ष सूचित कुमार सिंह मंच पर मौजूद थे।

Untitled-2 copy
इस अवसर पर मुख्य वक्ता राम कुमार जी ने खिलाड़ियों को विभिन्न दृष्टांत द्वारा उत्साह वर्धन किया। उन्होंने बताया कि कबड्डी संस्कृत शब्द ‘को बधी’ से बना है जिसका अर्थ कौन बद्घ करेगा बोलते हुए विपक्षी पाले में जाकर चुनौती देते हुए बारी-बारी से दोनों पक्ष के खिलाड़ी खेलते हैं. जिस खिलाड़ी को छूता है वह मरा समझा जाता है। फिर पुनः विपक्षी खिलाडिय़ों को छूने पर खिलाड़ी जिंदा हो जाता है। जो अपने पुनर्जन्म के सिद्धांत की मान्यता को बल प्रदान करता है। उन्होंने दो मित्र ,खरहा और कछुआ की कहानी द्वारा बताया कि दोनों के बीच बारी बारी से हुई दौड़ प्रतियोगिता में एक बार कछुआ तो एक बार खरहा जीतता है। फिर पानी में खरहा के हार जाने पर कछुआ उसे अपनी पीठ पर लेकर दौड़ जीतता है इसी तरह खरहा भी कछुआ को अपनी पीठ पर लेकर जमीन पर दौड़ जीतता है। इस तरह दोनों मिलकर एक दूसरे को जिताने का काम करते हैं। ऐसी प्रतियोगिता क्रीडा भारती में ही होती है । जिसमें खेल भावना की प्रधानता होती है। उन्होंने विश्व पटल पर भारत के स्थान पर दुख प्रकट करते हुए कहा कि क्रीडा भारती खेल क्षेत्र में देशभक्त खिलाडिय़ों का निर्माण करती है जो खेल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करे।

WhatsApp Image 2019-12-26 at 11.04.12
प्रांत अध्यक्ष सुमन चंद ने खिलाड़ियों को निडर, परिश्रमी, अनुशासित, संस्कारित, मर्यादित एवं मजबूत होकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने एवं भारत को एक संबंधित खेलों में विजेता बनाने आह्वान किया।
प्रांत मंत्री अमित कुमार ठाकुर ने सफल आयोजन के लिए सभी आयोजकों की सराहना करते हुए कहा कि किशनगंज के खिलाड़ी काफी अनुशासित हैं। प्रांत मंत्री ने नारायण शर्मा के नेतृत्व में जिला कार्यकारिणी की घोषणा की।
प्रतियोगिता में कुल २६ टीमों ने भाग लिया। जिसमें सीनियर वर्ग में बजरंग दल एवं रोलबाग की टीम संयुक्त विजेता एवं बालक वर्ग में वनवासी कल्याण आश्रम की टीम विजेता रही।
कार्यक्रम में निर्णायक की भूमिका कौशल, अमित, विकास, सुनील, सुरेन्द्र गिरी थे। कार्यक्रम को सफल बनाने में अभिनव, सुबीर मजूमदार, अजित, नारायण शर्मा, उमेश पोद्दार, अनिल कुमार गोंड, विश्वजीत जी, मिस्टू दास, भोलाजी, विकास पासवान, विकास कुमार विक्की, रितिक, अभिजीत आदि का सराहनीय योगदान रहा। सभी विजेताओं एवं उपविजेताओं को भारत माता का चित्र एवं संघ साहित्य देकर सम्मानित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *