पटना (विसंके)। किशनगंज के अनिल बसाक के यूपीएससी टॉपर बनने की कहानी एक फिल्मी कहानी जैसी है। अनिल के पिताजी बिनोद बसाक कपड़े की फेरी लगा कर गांव गांव घूमते थे। कठिन परिस्थिति में वे अपने बच्चों का पालन पोषण करते थे। 4 भाइयों के परिवार में अनिल का नंबर दूसरा है। अनिल के लिए यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण करना तारे तोड़ने जैसा था। लेकिन घर की माली हालत खराब होने पर भी अनिल ने हार नहीं मानी। लगातार अपने ध्येय के प्रति प्रयत्नशील रहे। पहले प्रयास में पीटी की परीक्षा भी उत्तीर्ण नहीं कर सके। दूसरे प्रयास में उन्हें 616 वाँ स्थान मिला। लेकिन हिम्मत हारे बगैर वे अपने धुन में लगे रहे। और 2020 की परीक्षा में 45 वां स्थान लाकर आईएएस बनने का सपना साकार किया।

अनिल ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई किशनगंज के ओरिएंटल पब्लिक स्कूल से की। 8 वीं की पढ़ाई करने के बाद वर्ष 2011 में अररिया स्थित अररिया पब्लिक स्कूल से मैट्रिक की परीक्षा पास की। 12 वीं की पढ़ाई किशनगंज के बाल मंदिर सीनियर सेकेंड्री स्कूल से पूरी की। 2014 में इनका चयन आईआईटी, दिल्ली में हुआ। वहां से उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई 2018 में पूरी की। 2018 और 2019 के बाद उन्हें सपनों की मंजिल 2020 में प्राप्त हुई। अनिल अपनी सफलता का श्रेय माता, पिता के अलावा अपने अध्यापक सुभाष वर्मा और जयशंकर को देते हैं।

संजीव कुमार, संपादक विश्व संवाद केंद्र 

Leave a Reply

Your email address will not be published.