26 जुलाई : जन्म-दिवस
पटना, 26 जुलाई : अपने उपन्यासों की विशिष्ट शैली एवं कथानक के कारण बहुचर्चित कन्नड़ साहित्यकार डाॅ. एस. एल. भैरप्पा का जन्म 20 अगस्त, 1931 में कर्नाटक के हासन जिले के सन्तेशिविर ग्राम के एक अत्यन्त निर्धन परिवार में हुआ। आठ वर्ष की अवस्था में एक घण्टे के अंतराल में ही इनकी बहिन एवं बड़े भाई की प्लेग से मृत्यु हो गयी। कुछ वर्ष बाद ममतामयी मां तथा छोटा भाई भी चल बसा। इस प्रकार भैरप्पा का कई बार मृत्यु से साक्षात्कार हुआ। इनके पिता कुछ नहीं करते थे। अतः इन्हें प्रायः भूखा सोना पड़ता था।
अब इनकी देखभाल का जिम्मा इनके मामा पर था; पर वे अत्यंत क्रूर एवं स्वार्थी थे। अध्ययन में रूचि के कारण भैरप्पा ने कभी अगरबत्ती बेचकर, कभी सिनेमा में द्वारपाल का काम कर, तो कभी दुकानों में हिसाब लिखकर पढ़ाई की। एक बार उन्होंने मुंबई जाने का निर्णय लिया; पर पैसे न होने के कारण वे पैदल ही पटरी के किनारे-किनारे चल दिये। रास्ते में भीख मांग कर पेट भरा। कभी नाटक कंपनी में तो कभी द्वारपाल, बग्घी चालक, रसोइया आदि बनकर मुंर्ब में टिकने का प्रयास किया; पर भाग्य ने साथ नहीं दिया। अतः एक साध्ुा के साथ गांव लौट आये और फिर से पढ़ाई चालू कर दी।
चन्नरायपट्टण में प्राथमिक शिक्षा क बाद भैरप्पा ने मैसूर में एम.ए. किया। जीवन के थपेड़ों ने इन्हें दर्शन शास्त्र की ओर आकृष्ट किया। मित्रों ने इन्हें हिा कि इनसे रोटी नहीं मिलेगी; पर इन्होंने बी. ए. एवं एम. ए. दर्शन शास्त्र में स्वर्ण पदक लेकर किया। इसके बाद ‘सत्य और सौन्दर्य’ विषय पर बड़ोदरा के सयाजीराव विश्वविद्यालय से इन्हीं पी-एच.डी की उपाधि मिली।
1958 में इनकी अध्यापन यात्रा कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली होती हुई मैसूर में पूरी हुई। 1992 में डाॅ. भैरप्पा अवकाश लेकर पूर्णतः लेखन के प्रतत समर्पित हो गये। इनका पहला उपन्या ‘धर्मश्री’ 1961 में प्रकाशित हुआ था। इसके बाद यह क्रम चल पड़ा। सार्थ, पर्व, वंशवृक्ष, तन्तु आदि के बाद 2007 में इनका 21वां उपन्यास ‘आवरण’ छपा। ‘उल्लंघन’ और गृहभंग’ का अंग्रेजी एवं भारत की 14 भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।
डाॅ. भैरप्पा के उपन्यासों के कथानक से पाठक का मन अपने धर्म एवं संस्कृति की ओर आकृष्ट होता है। इनके अनेक उपन्यासों पर नाटक और फिल्में भी बनी हैं। इनकी सेवाओं को देखते हुए कर्नाटक साहित्य अकादमी, केन्द्रीय साहित्य अकादमी तथा भारतीय भाषा परिषद्, कुमार सभा पुस्तकालय जैसी संस्थाओं ने इन्हें अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया।

उनके द्वारा लिखे गये कन्नड़ उपन्यास “मंद्र” के हिन्दी और मराठी में अनुवाद प्रकाशित हो चुके हैं, जो बेहद सफल रहे।

डाॅ. भैरप्पा अखिल भारतीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष रहे तथा उन्होंने अमरीका में आयोजित कन्नड़ साहित्य सम्मेलन की अध्यक्षता की। कला एवं शास्त्रीय संगीत में रूचि के कारण उन्हेांने अनेक अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालयों का भ्रमण कर उन्हें महत्वपूर्ण सुझाव दिये। डाॅ. भैरप्पा ने यूरोप, अमरीका, कनाडा, चीन, जापान, मध्य पूर्व तथा दक्षिण एशियाई देशों की यात्रा की है। प्रकृति प्रेमी होने के कारण उन्होंने हिमालय के साथ-साथ अण्टार्कटिका, आल्प्स (स्विटजरलैंड), राकीज (अमरीका) तथा फूजीयामा (जापान) जैसी दुर्गम पर्वतमालाओं का व्यापक भ्रमण किया।
ईश्वर से प्रार्थना है कि वह डाॅ. भैरप्पा को स्वस्थ रखे, जिससे वे साहित्य के माध्यम से देश और धर्म की सवा करते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.