पटना (विसंके)। दक्षिण बिहार विश्व हिन्दू परिषद् की दो दिवसीय कार्यकारणी बैठक पटना में संपन्न हुआ। शुक्रवार को बैठक के बाद विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष आरएन सिंह, महामंत्री मिलिंद परांडे, प्रांत अध्यक्ष कामेश्वर चौपाल, प्रांत मंत्री परशुराम कुमार, क्षेत्रीय मंत्री विरेन्द्र विमल, क्षेत्रीय संगठन मंत्री केशव राजू, प्रांत संगठन मंत्री चितरंजन ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी दी गई।

विहिप के पदाधिकारियों ने धर्मांतरण के खिलाफ बिहार में सख्त कानून बनाने की। हाल में इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा धर्मांतरण पर की गई टिप्पणी का हवाला देते हुए विहिप नेताओं ने बताया कि हाईकोर्ट ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा है कि बहुसंख्यकों के धर्म परिवर्तन के कारण देश कमजोर हो जाता है। इसका इतिहास गवाह है कि हम गुलाम हुए और देश का विभाजन हुआ।

PATNA CITY 03

उन्होंने बताया कि विश्व हिन्दू परिषद के दक्षिण बिहार प्रांत की दो दिवसीय कार्यकारिणी की बैठक में विभिन्न विषयों पर विस्तृत चर्चा की गई। कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारी के अलावा कई ज्वलंत समस्याओं पर भी विचार-विमर्श किया गया। कोरोना की संभावित तीसरी लहर में लोगों की सेवा के लिए विश्व हिन्दू परिषद द्वारा विशेष तैयारी की जा रही है।इसके तहत लोक जागरण,रोग निरोधक क्षमता को विकसित करना,टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित व सहयोग करना और टेलीमेडिसिन के माध्यम से दूर-दराज के ग्रामीण इलाके के लोगों को सहयोग करना आदि शामिल है।

इसके अलावा कोरोना की पिछली दो लहरों में विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा जो कार्य किए गए थे उसे भी आवश्यकतानुसार जारी रखा जाएगा। विहिप द्वारा जरूरतमंदों के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था, भोजन की व्यवस्था, आइसोलेशन सेंटर का संचालन आदि के माध्यम से लोगों की सेवा की गई थी।

विहिप नेताओं के अनुसार कुछ प्रमुख समस्याओं में धर्मान्तरण, लव जेहाद और हिन्दू समाज पर बढते आक्रमण पर चिंता व्यक्त करते हुए निर्णय लिया गया कि धर्मान्तरण-लव जेहाद को रोकने के लिए विहिप के कार्यकर्ता विशेष रूप से सक्रिय होंगे और अभियान चलाकर जबरन या प्रलोभन देकर चलाए जा रहे इस मुहिम पर रोक लगाएंगें। कई राज्यों में धर्मान्तरण के खिलाफ कानून बनाए गए हैं। विश्व हिन्दू परिषद बिहार में भी धर्मान्तरण के खिलाफ कानून बनाने का पक्षधर है। बिहार सरकार से मांग करते हैं कि धर्मान्तरण के खिलाफ इस राज्य में भी सख्त कानून बनाए ताकि यहां भी धर्मान्तरण पर रोक लगे।

बिहार में हाल की कई घटनाएं चिंता का विषय है। पूर्णिया, दरभंगा, जमुई, बांका की घटनाएं सब के सामने है। अनुसूचित जाति-जनजाति को खास तौर पर निशाना बनाया जा रहा है। इन घटनाओं को लेकर विश्व हिन्दू परिषद का एक प्रतिनिधि मंडल बिहार के राज्यपाल और शीर्ष अधिकारियों से मिलकर जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर चुका है। बिहार के सीमांचल व अन्य क्षेत्रों में मुस्लिम घुसपैठ और हिन्दू समाज पर आक्रमण की घटनाएं बढी हैं। इसे रोकने के लिए विहिप के कार्यकर्ता समाज को जागृत करने के साथ-साथ ऐसी मुहिम चलाने वालों के खिलाफ अभियान में हिन्दू समाज के साथ हमेशा मजबूती से खड़े रहेंगें। ज्वलंत समस्याओं के अलावा दो दिवसीय बैठक में संगठन के विस्तार पर चर्चा हुई और जिला, प्रखंड से लेकर पंचायत स्तर तक संगठन को मजबूत व सक्रिय करने पर विचार-विमर्श हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.