नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में दिल्ली में भड़की हिंसा में अभी तक 7 लोगों की मौत हो गई, जिनमें दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल भी शहीद हुए हैं। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एन्क्लेव और शिव विहार मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है। भजनपुरा, सीलमपुर समेत इन इलाकों में हिंसा भड़की हुई है। उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में धारा 144 लगाई गई है। स्कूलों को बंद रखा गया है। सीएए के विरोध में भड़की हिंसा में भी तक 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं।
जाफराबाद में रविवार रात को लगा टैंट
सीलमपुर मेट्रो स्टेशन के पास जाफराबाद में रविवार रात को प्रदर्शनकारियों ने सड़क के किनारे टेंट लगाए। सोमवार शाम तक भाषणबाजी होती रही और लोग इकट्ठा होते रहे। माहौल तनावपूर्ण न हो इसलिए सुरक्षा बलों की कई टुकड़ियों को तैनात कर दिया था, लेकिन शाम होते-होते हिंसा भड़क गई। विरोध के नाम पर उपद्रवियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी करना शुरू कर दी। एक शख्स गोली चलाता हुई भी दिखा जिसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
सोमवार को हिंसा में घायल हुए हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल ने दम तोड़ दिया। इसके लिए दिल्ली पुलिस के कुछ जवान और अधिकारी भी घायल हुए हैं जिनका अस्पताल में उपचार जारी है। प्रदर्शनकारियों ने भजनपुरा में एक पेट्रोल पंप, टायर मार्केट, कई गाड़ियों और बाइकों में आग लगा दी।
दिल्ली में इतनी हिंसा होने के बाद भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी नहीं टूटी। मंगलवार करीब 11 बजे अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सिर्फ शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.