संजीव कुमार

पटना/ समस्तीपुर (विसंके)। बिहार में लड़कियों को शादी की नीयत से भगाने का ग्राफ काम नहीं हो रहा है। बिहार के थानों में प्रति माह 300 मामले लड़कियों के अगवा किए जाने या घर से भाग जाने के सामने आ रहे हैं। इसमें अधिकांश अल्प वयस्क लड़कियां हैं। ऐसे कई मामले तो सिर्फ धर्म परिवर्तन के नीयत से किए जाते हैं। कुछ मामलों में तो लड़कियों की बरामदगी हो जाती है लेकिन कई मामलों में तो लड़कियों का कुछ अता पता तक नहीं चल पाता।

अभी 3 सितंबर को समस्तीपुर में एक लड़की को धर्म परिवर्तन के ठेकेदारों से हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने छुड़ाया। समस्तीपुर जिले के हरिशंकरपुर बघौनी गांव में गत 23 अगस्त को एक 16 साल की लड़की पूजा का अपहरण कर लिया गया। वह उस समय घर के राशन के सामान लाने अपनी छोटी बहन के साथ निकली थी। 16 साल की इस नाबालिक लड़की को बाइक सवार अपराधी जबरन बाइक पर बिठाकर भाग निकले। इस मामले की जानकारी परिवार को लोगों को उस वक्त हुई जब अगवा की गई 16 वर्षीय नाबालिग लड़की पूजा की छोटी बहन घर वापस आई जिसके बाद परिवार में कोहराम मच गया। घटना के संदर्भ में अगवा की गई लड़की पूजा की छोटी बहन बताती है की दो बाइक पर सवार चार लोग थे जो पूजा को पिस्तौल सटाकर अगवा कर लिया और उसे धक्का देकर गिरा दिए 4 में से दो शख्स जिस ने अगवा किया है उसका चेहरा देखने पर वह पहचान जाएगी। इस मामले को लेकर परिवार के लोगों के द्वारा ताजपुर थाना में एफ आई आर भी दर्ज कराया गया है लेकिन परिवार के लोगों का आरोप है कि उनकी पूरी बात को प्राथमिकी में पुलिस के द्वारा नहीं लिखा गया है। साथ ही एक आरोपी को पकड़ कर पुलिस को दिया गया था जिसे पुलिस ने छोड़ दिया। 31 अगस्त तक अगवा की गई नाबालिग लड़की पूजा को बरामद नहीं किया जा सका । लड़की के परिजन इलाके के मुस्लिमों द्वारा किए जा रहे ऐसे कृत्यों से पहले से ही खौफ में थे।

fir copy samastipur

परिवार के लोगों के द्वारा दर्ज कराए गए प्राथमिकी में बंगरा थाना इलाके मोहिउद्दीनपुर गांव के मोहम्मद इम्तियाज और मोहम्मद नैयाज़ के ऊपर अगवा करने का आरोप लगाया गया। इसमें सहयोग करने वालों में मोहम्मद जाहिद का नाम दिया गया है। परिवार के लोगों ने आशंका व्यक्त की थी कि अगवा करने वाले युवक उसके साथ धर्म परिवर्तन कर शादी करेंगे और कुछ दिनों बाद उससे अनैतिक कार्य कराएंगे और अंततः उसे बेच भी देंगे।

जब इस मामले की जानकारी हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं को हुई तो सभी लोग सक्रिय हो गए। इस मामले को ध्यान में रखकर समस्तीपुर में मंच द्वारा एक बैठक आयोजित की गई। इसमें स्थानीय कार्यकर्ताओं के अतिरिक्त प्रांत और क्षेत्र स्तर के कार्यकर्ता भी आए थे। मंच के प्रांत अध्यक्ष विनोद राय और बिहार के संगठन मंत्री यशवंत जी की अध्यक्षता में यह बैठा हुई। इस मामले में आंदोलन की बात कही गई। जन दबाव को देखते हुए धर्म परिवर्तन के ठेकेदार सकते में आ गए। 3 सितंबर को लड़की की सकुशल बरामदगी हो गई।

इसी तरह का एक मामला पटना के नौबतपुर प्रखंड में देखने को मिला। इस घटना के संबंध में अपहृत लड़की की मां ने बताया कि 28 अगस्त को उनकी बेटी सामान खरीदारी के लिए नौबतपुर बाजार गई थी। लेकिन जब वह मार्केट से सामान की खरीदारी करके लौटने लगी तभी रास्ते में मोहम्मद शमशेर मिल गया। अपहृत लड़की की मां ने आरोप लगाया है कि बाजार से लौटने के क्रम में ही शमशेर ने उनकी बेटी का शादी की नीयत से अपरण कर लिया।अपहृत लड़की के घर वालों का कहना है कि अगवा करने के बाद मोहम्मद शमशेर उसे पटना की तरफ ले कर भागा है। इस घटना के बाद लड़की के परिवार वालों ने यह आशंका जताई है कि जिन लोगों ने अपहरण किया है वो उनकी बेटी का धर्म परिवर्तन करवा सकते हैं। अपहृत लड़की के घर वालों ने बेटी की हत्या की भी आशंका जताई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.