पूरनमल सावित्री देवी बाजोरिया सरस्वती शिशु मंदिर, नरगाकोठी के प्रांगण में विद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा तुलसी जयंती मनाई गई। विद्यालय के प्रधानाचार्य अजीत कुमार एवं जयंती प्रमुख अभिजीत आचार्य के द्वारा तुलसीदास के चित्र पर पुष्पार्चण एवं दीप प्रज्वलित कर उन्हें याद किया गया।

a25

प्रधानाचार्य अजीत कुमार ने बताया कि सम्पूर्ण भारतवर्ष में महान ग्रंथ रामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास के स्मरण में तुलसी जयंती मनाई जाती है। जीवन में हर स्थिति का सामना मजबूती से करने की सीख तुलसीदास के रामचरितमानस के दोहे से मिलता है।  परिस्थिति कितनी ही विपरीत क्यों न हो मनुष्य के ये सात गुण उनकी रक्षा करते हैं।

svm bjp

डॉ संजीव कुमार ठाकुर ने बताया कि यदि गोस्वामी तुलसीदास के बताये मार्ग पर मानव चले तो उनका जन्म लेना सार्थक हो जायेगा। सम्पूर्ण विश्व सुगन्धमय फुलवारी बन जायेगा तथा मानव को यह पूरा संसार सिया राममय दिखने लगेगा। वही अभिजीत आचार्य ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास जी मानव मात्र को अपने दोहे द्वारा समझाना चाहते हैं कि मनुष्य को दया करना कभी नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि दया ही हर धर्म का मूल यानी जड़ है। तुलसीदास के दोहे ऐसे हैं जिसमें जीवन जीने की सीख दी गई है जो आज के समय में पूरी तरह लागू होती है।

a23

जयंती के अवसर पर विद्यालय में कक्षा द्वितीय से पंचम तक के छात्र-छात्राओं द्वारा रामचरितमानस पाठ किया गया। इस अवसर पर मनोज तिवारी, शशि भूषण मिश्र, अमर ज्योति, गोपाल सिंह, सुबोध ठाकुर, शशि कांत गुप्ता, उपेन्द्र प्रसाद साह,अंजू रानी, ललिता झा, कविता पाठक, रेणु कुमारी एवं सभी छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.