सीवान (विसंके)। क्रीड़ा भारती उत्तर बिहार प्रांत की कोर कमिटी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर के भारतीय हॉकी टीम के कांस्य पदक जीतने की बधाई देते हुए कहा कि भारतीय हॉकी का स्वर्णिम दौर अब वापस आ गया है।

क्रीड़ा भारती के प्रांत अध्यक्ष चंद्रशेखर अधिकारी ने कहा कि इसका प्रत्यक्ष प्रमाण इस बार के टोकियो ओलंपिक खेल में देखने को मिला। जहां भारतीय पुरुष एवं महिला टीम ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई। ओलंपिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि एक ही देश की पुरुष एवं महिला टीम सेमीफाइनल में पहुंचने का दम दिखाया है ।

वहीं प्रांत उपाध्यक्ष रोशन सिंह धोनी ने कहा कि पुरुष एवं महिला हॉकी टीम ने ओलंपिक में इतिहास रचते हुए सालों बाद टोकियो ओलंपिक  के सेमीफाइनल में जगह बनाई।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने इसके पहले 1972 के ओलंपिक में सेमीफाइनल खेला था और उस ओलंपिक में भारत ने स्वर्ण पदक भी जीता था। प्रांत उपाध्यक्ष सुमन चंद ने कहा कि भारतीय महिला टीम ने इस बार ओलंपिक में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया हैं। वहीं क्रीड़ा भारती उत्तर बिहार प्रांत के मंत्री अमित कुमार ठाकुर ने कहां कि 41 वर्षों (1980) बाद देश के राष्ट्रीय खेल हॉकी के खिलाड़ियों ने भारतीय हॉकी के गौरव को वापस दिलाते हुए  आज जर्मनी टीम को 5/4 से हराकर कांस्य पदक अपने नाम करते हुए समस्त देशवासियों के लिए एक  खुशी का मौका दिया है।

प्रांत कोषाध्यक्ष रोहित सिंह ने कहां कि देश के  खेल मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा शुभारंभ किये गए खेलो इंडिया एवं फिट इंडिया कार्यक्रम के सकारात्मक परिणाम अब दिखने लगें हैं। वहीं प्रांत सह मंत्री नवीन सिंह परमार ने कहां कि 41 वर्षों बाद ओलंपिक में मेडल दिलानेवाले भारतीय हॉकी टीम को हार्दिक बधाई, शुभकामनाएं व अभिनंदन।

Leave a Reply

Your email address will not be published.