पटना- विश्वविद्यालय और शिक्षा से संबंधित अधिकारियों के द्वारा छात्रों की समस्या को अनदेखी किए जाने से छात्रों की समस्या में लगातार वृद्धि हो रहा है जिससे कई छात्र बीच में ही पढाई को छोड़कर घर चले जाते है।
छात्रों की मुलभुत समस्या जैसे विश्वविद्यालय में समय से पाठ्यक्रम का पूरा ना हो पाना, पढाई का शुल्क अधिक होना इन सभी मुद्दों को लेकर आज अखिल भारतीय विधार्थी परिसद् का एक प्रतिनिधिमंडल मगध विश्वविद्यालय के कुलपति कमर अहसन से मिला और 12 मुद्दों को कुलपति के सामने रखा जिसमें छात्रों की मुलभुत समस्या को जल्द से जल्द समाधान निकलने पर जोर दिया गया।
अभाविप का पहला मुद्दा स्नातकोत्तर सेकंड सेमेस्टर एवं फोर्थ सेमेस्टर की त्रुटि पूर्ण परीक्षा परिणाम में अभिलंब सुधार कर जारी किया जाए साथ ही स्नातक प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष की परीक्षा में हो रही देरी को लेकर परीक्षा की तिथि का घोषणा एवं फर्जी वायरल परीक्षा रूटीन पर चर्चा किया। कुलपति ने नवंबर के प्रथम सप्ताह में परीक्षा तिथि की घोषणा एवं वायरल रूटीन पर जांच कराने का आश्वासन दिया। B.Ed प्रमोटेड का मामला, व्यवसायिक पाठ्यक्रम, लंबित परीक्षा एवं परिणाम, छात्राओं का फी माफ, छात्र संघ चुनाव एवं स्नातक अंतिम वर्ष के त्रुटिपूर्ण परीक्षा परिणाम में अभिलंब सुधार किया जाए साथ ही इसका परिणाम आने के बाद ही स्नातकोत्तर में नामांकन लिया जाए एवं एकेडमिक कैलेंडर सभी महाविद्यालयों में शक्ति से लागू करने की मांग की गई।
कुलपति से मिलने गए प्रतिनिधिमंडल से सदस्य में पटना विश्वविद्यालय के सीनेटर पप्पू वर्मा, प्रदेश कार्यलय मंत्री सुबोध जी, महानगर संगठन मंत्री धीरज कुमार, प्रदेश सह मंत्री सुजीत पांडेय, महानगर कार्यकारणी सदस्य कुंदन सिंह उपस्थित थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.