पटना, 27 दिसंबर। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की तीन दिवसीय 64वां राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन आज अहमदाबाद में हुआ। अधिवेशन का उदघाटन पूर्व अध्यक्ष, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पद्मश्री एस. किरण कुमार, गुजरात के मुख्यमंत्री विजयभाई रुपाणी, अभाविप राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. एस. सुबैया, महामंत्री आशीष चौहान सहित कई गणमान्य लोगों ने किया। 64वां राष्ट्रीय अधिवेशन के अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ने प्रसन्नता जताई एवं शुभकामनाएं दी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पत्र ने कहा कि देश के सामाजिक व राजनीतिक बदला के साथ भविष्य के लिए नीति निर्माण में युवा विद्यार्थियों की राय और सहभागिता उपयोगी होती है। समस्त देशवासियों, विशेषकर युवाओं  के सक्रिय योगदान से पिछले कुछ वर्षों में हमने विविध क्षेत्रों में कई गौरवपूर्ण उपलब्धियां हासिल की है और विकास की राह में राष्ट्र निरंतर अग्रसर है। वर्ष 2022 में देश की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने तक ‘न्यू इंडिया’ के स्वप्न को साकार करने में युवा शक्ति की भूमिका बेहद अहम सिद्ध होगी।

युवा छात्र-छात्राओं और राष्ट्रहित के विभिन्न विषयों को मुखरता से उठाने में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की भूमिका सराहनीय रही है। मुझे उम्मीद है कि अधिवेशन में बदलते दौर की चुनौतियों, देश के विकास और समाज के प्रति दायित्व सहित अन्य विषयों पर रचनात्मक, विचारपूर्ण और फलदायी चर्चा होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.