प्रदर्शन करते छात्र
पटना- आज अखिल भारतीय विदार्थी परिसद् पटना महानगर इकाई द्वारा पटना विश्वविद्यालय में छात्र रैली एवं प्रदर्शन का आयोजन किया गया जो बिहार सरकार, विश्वविद्यालय कुलपति और प्रशासन के कारण अस्थगित हो गया। यह रैली बी.न. कॉलेज से विश्विद्यालय परिसर तक जाती। अभाविप द्वारा पटना विश्वविद्यालय परिसर में व्याप्त शैक्षणिक कुव्यवस्था, शिक्षको की घोर कमी, वर्ग संचालन नही होना, सत्र नियमित नही होना, ऐकेडमिक कैलेंडर लागू नही करना, छात्रसंघ चुनाव नही होना जैसे अनेक कुव्यवस्था के खिलाफ अखिल भारतीय विदार्थी परिसद् छात्रों कि आवाज बन कर उनके साथ हमेशा खड़ा रहता है।
सभा को संबोधित करते हुए क्षेत्र संगठन मंत्री श्री निखिल रंजन ने कहा की विधार्थी परिसद् इस कार्यक्रम हेतु पूर्व से ही संबंधित प्रसासनिक संस्थानों से अनुमति लेने और पूर्व सूचना देने का कार्य किया जा चुका था फिर भी छात्रों को शांतिपूर्ण तरीके से अपने बातों को रखने से रोकना लोकतंत्र हत्या के समान है। आज पूरे प्रदेश में शिक्षा का स्तर काफी निचे गिर चुका है। छात्र बुनियादी मांगों के लिए सडक पर उतरने को मजबूर हैं। फिर भी शिक्षा व्यवस्था को सुधारने हेतु सरकार में इच्छा शक्ति का घोर आभाव है, जिसके कारण छात्र की प्रतिभा गुमनामी में जीने को मजबूर है। सभा को संबोधित करते हुए प्रांत संगठन मंत्री श्री अनिल कुमार ने कहा कि पटना वि0वि0 का गौरवान्वित इतिहास रहा है परन्तु राज्य सरकार के निराशाजनक रवैये के कारण इसकी स्थिति बदतर हो चुकी है। प्लेसमेंट सेल, पुस्तकालय जैसे जरूरतों का घोर अभाव है जिसके कारण आये दिन छात्रों में नामांकन को लेकर रूचि घटी है। यह चिंताजनक स्थिति है जिस पर वि0वि0 प्रशासन को ध्यान देना होगा।
मीडियाकर्मियों को संबोधित करते पप्पू वर्मा abvp छात्र नेता
मीडियाकर्मियों को संबोधित करते पप्पू वर्मा abvp छात्र नेता
पटना विश्वविद्यालय के सीनेटर पप्पू वर्मा ने कहा कि बिहार की सरकार, कुलपति और प्रशासन तीनों ने मिलकर विश्वविद्यालय में शैक्षणिक अराजकता और विश्वविद्यालय में फैल रही गुंडागर्दी को बढ़ावा देने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। विगत वर्षों से जब-जब अभाविप के छात्र कार्यकर्ता विश्वविद्यालय के गलत निति के खिलाफ आवाज उठाते हैं तब—तब छात्रो के आवाज़ को दवा दिया जाता है। पप्पू वर्मा ने कहा कि अगर इसी तरह छात्रों के आवाज को दवाया जाता रहा तो पटना विश्वविद्यालय में शिक्षा व्यवस्था चौपट हो जाएगी और शैक्षणिक कुव्यवस्था, शिक्षको की घोर कमी जैसे अनेक समस्या फलने—फूलने लगेंगे जिससे निजत पाना मुश्किल हो जाएगा।
रैली में भाग लेने आए छात्रों का उत्साह देखने को बना छात्रों ने कहा कि बिहार सरकार, विश्वविद्यालय कुलपति, और प्रशासन ने आज लोकतांत्र की हत्या कर दी है, बिहार जैसे राज्य में जहाँ अभाविप के सहयोग से 1975 में देश को भ्रष्टाचार और कुव्यवस्था का अंत किया था आज फिर वही समय आ गया है।
कुलपति से समस्या पर चर्चा करते हुए
कुलपति से समस्या पर चर्चा करते हुए
मांग पत्र पर कुलपति की पुष्टि
मांग पत्र पर कुलपति की पुष्टि
छात्रों को देखते हुए प्रशासन ने अभाविप के 10 छात्र कार्यकर्ता ( प्रांत संगठन मंत्री अनिल कमर, पटना विश्वविद्यालय सीनेट सदस्य पप्पू वर्मा, विश्वविद्यालय प्रमुख विजय प्रताप, वि.वि. संयोजक श्री राम शर्मा, वि.वि. अध्यक्ष मणिकांत मणि, वि.वि. मंत्री सर्वदीप आनंद, महा नगर मंत्री दिव्यांशु भारद्वाज, महा नगर सह मंत्री रजनीश सिंह, मुकेश कुमार, अंकित कुमार, नीतीश कुमार, सतीश कुमार ) को शांति पूर्ण रूप से अपने साथ कुलपति के पास लेकर गए और कुलपति ने छात्रों कि मांगों को सुना और छात्रों के मांगों को पूरा करने का विश्वास दिया।
छात्रों ने कहा कि रैली को रोककर हमारे समस्या को विश्वविद्यालय कुलपति अनदेखा नहीं कर सकते जबतक हमारी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तबतक अखिल भारतीय विदार्थी परिसद् छात्रों के हितो के लिए प्रदर्शन करता रहेगा। रैली में विश्वविद्यालय संगठन मंत्री धीरज कुमार, गौरव सुन्दरम, मुकेश कुमार, विवेकानंद, राहुल कुमार सहित सेकड़ो छात्र कार्यकर्ता मोजूद थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.