अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, मुजफ्फरपुर के द्वारा जालियांवाला बाग हत्याकांड के शताब्दी वर्ष के पूर्व संध्या पर स्थानीय छाता चौक पर एक दीया शहीदों के नाम कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस मौके पर अभाविप के प्रदेश उपाध्यक्ष ममता कुमारी ने कहा की 13 अप्रैल 1919 को जो घटना अमृतसर स्थित जालियांवाला बाग में घटना घटी, इसे भला कौन भूल सकता है. जनरल डायर नामक अंग्रेज ने रौलट एक्ट के विरोध में चल रही सभा पर अंधाधुंध गोलियां चलवाई थी जिसमें हजारों निर्दोष भारतीय के मौत का घाट उतार दिया, जो कि इतिहास का काला दिन है.

इसी घटना के बाद उधम सिंह जैसा वीर पैदा हुआ और ब्रिटिश संसद में जाकर बदला लिया.

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला संयोजक प्रभात मिश्रा, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राम वर्धन, चंद्रभानु सिंह, दीपक यादव, रोहित कुमार, शशांक कुमार, धीरज कुमार, राहुल कुमार, ईशान कुमार, संतोष कुमार, हंशा, भारती, दिव्या कुमारी, अंजलि कुमारी, प्रीति कुमारी, सुधांशु कुमार सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.