रानी लक्ष्मीबाई जयंती पर अभाविप छात्राओं ने निकाला शौर्य यात्रा

औरंगाबाद,19 नवंबर। अखिल भारतीय विधार्थी परिषद् के द्वारा रानी लक्ष्मीबाई जयंती के उपलक्ष्य में अभाविप की औरंगाबाद की छात्राओं ने शौर्य यात्रा निकाली जिसमे लगभग 500 से अधिक संख्या में छात्राओं ने भाग लिया। शोभा यात्रा का नेतृत्व नगर छात्रा प्रमुख मनीषा व रानी कुमारी ने किया। शोभा यात्रा किशोरी सिन्हा महिला कॉलेज से लेकर गांधी मैदान तक सुसज्जित रथ के साथ निकला गया। शोभायात्रा के दोरान छात्राओं ने सर पर भगवा पगड़ी बंधे हाथ में तलवार ले कर रानी लक्ष्मीबाई का स्वरूप प्रदर्शित किया। छात्राओं ने पूरे जोश व उत्साह के साथ पूरे शहर को रानी लक्ष्मीबाई के संदेशों से अवगत कराया।

इस बीच कई स्थानों पर कई संगठनों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, पूर्व मंत्री रामाधार सिंह,  अभाविप के पूर्व कार्यकर्ता रामानुज पाठक, उज्वल कुमार, अनिल सिंह आदि के द्वारा भी इस शोभायात्रा पर पुष्प वर्षा कर  छात्राओं को स्वाभिमान की रक्षा हेतु शस्त्र देकर स्वागत किया।

प्रदेश कार्यसमिति सदस्य आशिका कुमारी ने कहा की भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित करने वाली झांसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई वास्तविक अर्थ में आदर्श वीरांगना थीं। रानी लक्ष्मीबाई पवित्र उद्देश्य की प्राप्ति के लिए सदैव आत्मविश्वासी, कर्तव्य परायण, स्वाभिमानी और धर्मनिष्ठ थी। आज भारत की महिला एवं नारी शक्ति रसोई घर से निकलकर अंतरिक्ष तक पहुंच चुकी हैं।

अनिशा एवं रश्मि ने कहा की भारतीय विरांगना युद्ध में इस बात को दिखा दिया कि अपने अधिकारों तथा देश की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए भारत की महिलाएं भी पुरुषों से पीछे नहीं है। युद्ध में रानी लक्ष्मीबाई ने वीरगति पाई। मृत्यु को वरण करके भी वह अमर हो गई। उनके वीरतापूर्ण साहस के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है।

इस अवसर पर प्रीति, सोनी, सुप्रिया,  काजल, खुशबू, आशा,  रानी, माधुरी, खुशनुमा, रवीना, फौजिया, सोनाली, स्नेहा, स्वाति सिंह, अमृता सहित सैकड़ों की संख्या में छात्राओं ने भाग लिया।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.