सरकारी कर्मचारी राष्ट्रीय परिसंघ सम्बद्ध भारतीय मजदूर संघ की 14 अक्टूबर को एक दिवसीय भूख हड़ताल को ध्यान में रखते हुए बिहार शरीफ के बीएमएस कार्यालय में बिहार राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के तरफ से बैठक का आयोजन किया गया.

प्रदेश संयोजक अशोक कुमार ने कहा कि वर्तमान दौर में सरकारी कर्मचारियों का भविष्य अंधकारमय है. सत्ता शीर्ष के नेत्तृत्वकर्ताओं के द्वारा गलत फैसलों के कारण सरकारी दफ्तरों में सरकारी कर्मचारियों की संख्या दिन – प्रतिदिन घटता जा रहा है. अपने व्यक्तव में उन्होंने आगे कहा कि तीस पैंतीस वर्ष तक इमानदारी पूर्वक सेवा देने के बाद बुढ़ापा का सहारा पेंशन पर भी सरकार अड़चन लगा रही है. राज्य सरकार का तो और भी बुरा हाल है, यहाँ पेंशन तो कल्पना है सही समय पर सामान वेतन भुगतान नहीं किया जाता है.

बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि नालंदा जिले से लगभग 100 की संख्या में कर्मचारी 14 अक्टूबर 2019 को केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध करने के लिए, दिल्ली में आयोजित भूख हड़ताल में शामिल होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.