भागलपुर-   आज अखिल भारतीय विदार्थी परिसद् तिलकामांझी विश्वविद्यालय भागलपुर में छात्रों के समस्या समाधान के लिए विशाल छात्र रैली व प्रदर्शन किया गया। इस विश्वविद्यालय रैली में तिलकामांझी विश्वविद्यालय के अंतर्गत सभी जिलो खगड़िया, भागलपुर, बांका, जमुई, लखीसराय, शेखपुरा और मुंगेर के छात्रों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया सभी जिलो से आए हुए छात्र गोशाला मैदान भागलपुर में एकत्रित हुए वहां से छात्रों की विशाल रैली कोतवाली, होते हुए तिलकामांझी विश्वविद्यालय परिसर में पंहुचा। रैली का नेतृत्व आ.भा.वी.प. के प्रदेश मंत्री दीपक कुमार कर रहे थे, उनके नेतृत्व में हजारो छात्रों ने विश्वविद्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार, शैक्षिणिक अराजकता, छात्र संघ चुनाव, समय पर नामांकन और परिणाम नहीं आना अनेक समस्या को उजागर किया। सभी छात्र विश्वविद्यालय के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए विश्वविद्यालय परिसर तक पहुचें और वहाँ छात्रों ने विशाल रैली व प्रदर्शन को संबंधित किया।
मांग पत्र को लिए हुए छात्र
मांग पत्र को लिए हुए छात्र
इस रैली को सम्बोधत करते हुए प्रांत सह संगठन मंत्री सुग्रीव कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय की स्थापना 12 जुलाई 1960 को हुआ, स्थापना काल के बाद जिस तरह विश्वविद्यालय का विकास होना चाहिए था वो विकास नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि तिलकामांझी विश्वविद्यालय से लाखों छात्रों का भविष्य निर्माण होता है लेकिन विश्वविद्यालय के गलत निति के कारण आज छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो रहा है उन्होंने कहा कि जिन छात्रों को कक्षा में बैठ कर पढाई करना चाहिए वे छात्र अपने पढाई के लिए विश्वविद्यालय में मजबूरन आन्दोलन करने पर विवश हैं।
वहीँ सभा को सम्बोधत में राष्ट्रीय कार्यकारी परिसद् सदस्य भरत सिंह जोशी ने संबोधन में कहा कि तिलकामांझी विश्वविद्यालय में छात्रों के हित कि बात नहीं करता बल्कि ठेकेदारों के लिए बात होती है। विश्वविद्यालय में परिक्षा और परिणाम के लिए किसी तरह की निश्चित व्यवस्था नहीं है। छात्र विश्वविद्यालय के कॉलेजों में नामांकन तो लेते है लेकिन बाद में परिक्षा और परिणाम का तालमेल नहीं होने के कारण परेशानीयों का सामना करते है। सेशन लेट होने के कारण छात्रों को बहुत ही ज्यादा परेशानी होती है। सेशन जो तीन वर्ष का होता है वो पांच से छ: वर्ष तक का हो जाता है
वहीँ नगर मंत्री कुश पाण्डेय ने कहा कि तिलकामांझी विश्वविद्यालय में लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हनन हो रहा है। आज देश के सभी विश्वविद्यालयो में छात्र संघ चुनाव होता है। छात्र वेवाक़ तरीके से अपनी बातो को रखते है और उस राज्य को युवाओं का ऊर्जावान नेतृत्व भी मिलता है। लेकिन तिलकामांझी विश्वविद्यालय में बिहार सरकार और विश्वविद्यालय इस मामले में निष्क्रिय बना हुआ है क्योंकि छात्र संघ चुनाव करा दिए जाए तो इनको नया नेतृत्व वाले छात्र नेता जातिवाद, भ्रष्टाचार करने से रोकेगी जो ये लोग नहीं चाहते।
शांतिपूर्ण रूप से अपनी बातो को रखते आ.भा.वि.प. के छात्र
शांतिपूर्ण रूप से अपनी बातो को रखते आ.भा.वि.प. के छात्र
छात्रों को सम्बोधत करते हुए विश्वविद्यालय छात्रा प्रमुख अनमिका राज ने कहा कि आए दिन छात्राओं की सुरक्षा पर विश्वविद्यालय बार-बार अनदेखी कर रहा है जिसका परिणाम हाल ही में टि.एन.बी. महाविद्यालय के छात्रा कि हत्या कर दी गई फिर भी छात्रा की सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं है और इस विषय को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन आज भी अनदेखी कर रहा हैं।
छात्रों को सम्बोधत करते हुए विश्वविद्यालय छात्रा सह प्रमुख प्रियंका कुमारी ने कहा कि छात्राओं की सुरक्षा को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन अपनी नींद तोड़े और सुरक्षा व्यवस्था को सही करे।
वही अंत में छात्रों को सम्बोधत करते हुए आ.भा.वि.प. के प्रदेश मंत्री दीपक कुमार ने कहा कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों की मांगों को अविलम्ब नहीं मानती है तो इन मांगों को लेकर राज्यभवन में प्रदर्शन किया जाएगा जिसका परिणाम विश्वविद्यालय को भुगतना होगा। इसकी सारी जिम्मेदारी भ्रष्ट विवि के पदाधिकारियों कि होगी।                                                       रैली में विश्वविद्यालय संगठन मंत्री राजेश श्रीवास्तव, जिला संयोजक शशिकांत रंजन, कुश पाण्डेय, आनंद कुमार, पप्पू पाण्डेय, अनुपम राज, दीपक राज, विजय आजाद, प्रशांत कुमार, आदि हजारो की संख्या में छात्र मोजूद थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.