पटना:- अखिल भारतीय विधार्थी परिसद् के पटना महानगर इकाई द्वारा आज पटना के दो कॉलेज में विधार्थी परिषद् इकाई का पुनर्गठन किया गया एवं पुरानीं इकाई को भंग किया गया।
इकाई गठन कार्यक्रम के दौरान उपस्थित पटना विश्वविद्यालय के सिनेट सदस्य पप्पू वर्मा ने छात्रों को विधार्थी परिषद् के बारे में जानकारी दी। पप्पू वर्मा ने कहा कि विधार्थी परिषद् विश्व का एकमात्र सबसे बड़ा छात्र संगठन है। इस संगठन के जुड़ने से छात्रों के बौद्धिक विकास के साथ-साथ अपनी शिक्षा को सामाजिक सरोकार से जोड़ने का अवसर मिलता है।

“काॅलेज आॅफ काॅमर्स, आर्ट्स एण्ड साइंस कॉलेज” और “बी॰एन॰ काॅलेज” में विधार्थी परिषद् के पुरानीं इकाई को भंग किया गया और नई इकाई का पुनर्गठन किया गया। नई ईकाई की घोषणा विभाग संगठन मंत्री गौरव प्रकाश के द्वारा किया।
काॅलेज आॅफ काॅमर्स, आट्र्स एण्ड साइंस कॉलेज
काॅलेज अध्यक्ष- प्रिय रंजन कुमार
काॅलेज मंत्री-  सूरज कुमार
उपाध्यक्ष-  राजीव कुमार गोस्वामी, सोनू, रोहित कुमार, सुनील कुमार एवं मुन्ना कुमार
सह मंत्री- नीरज कुमार, रवि कुमार, आशुतोष कुमार, संदीप सिंह
सोशल मीडिया-  प्रभारी विष्णु राय
सह सोशल मीडिया प्रभारी-  अभिषेक आनन्द
छात्रा प्रमुख- दिव्या झा
एनएसएस प्रमुख- नीरज कुमार
लाइब्रेरी साइंस विभाग प्रमुख- सौरभ कुमार
काॅमर्स विभाग प्रमुख- मुकुन्द तिवारी
साइंस विभाग प्रमुख- अरणव कुमार
कला विभाग प्रमुख- विक्रांत यादव
साथ ही कार्यकारिणी सदस्य के रूप में शिव शक्ति, मनीष कुमार, प्रशांत, वेदांत कुमार एवं कुमुद रंजन को दायित्व दिया गया।
बी॰एन॰ काॅलेज, पटना  
काॅलेज अध्यक्ष- श्रीकांत कुमार
काॅलेज मंत्री- प्रतीक राजवीर
छात्रा प्रमुख- प्रीति कुमारी
उपाध्यक्ष- शुभम गौतम, मुकुल, राम लखन, अमरेश पाण्डेय तथा
सह मंत्री- प्रभात कुमार, सौरभ, अतुल, अभिमन्यु, धीरज कुमार
कार्यकारिणी सदस्य- राकेश, प्रशांत, सत्यम, आसिफ अहमद, प्रणव, करण कुमार, कवि नीलेश को दायित्व दिया गया।
इस अवसर पर पटना महानगर मंत्री दिव्यांशु भारद्वाज, प्रदेश कार्यालय मंत्री सुबोध कुमार ने कहा कि परिषद् छात्रों में राष्ट्रभक्ति के साथ-साथ विभिन्न ज्वलंत विषयों पर अपने विचार सार्वजनिक करने का अवसर देती है।
कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन महानगर सह मंत्री पुरुषोत्तम सिंह ने किया। इस अवसर पर महानगर सह मंत्री विकास सिंह, राहुल कुमार, दीपक कुमार भी उपस्थित थे।

By nwoow

Leave a Reply

Your email address will not be published.